मेट्रो में मुलाकात


Notice: Undefined offset: 1 in /home/indiand2/public_html/wp-content/plugins/internal-site-seo/Internal-Site-SEO.php on line 100

मेट्रो में मुलाकात

din/">Desistories.com/i-can-do-anything-to-pass-in-exams/">ass="story-content">

अन्तर्वासना के तमाम पाठकों एवं पठिकाओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार!

मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ और हर कहानी को बहुत मजा लेकर पढ़ता हूँ। मैं दिखने में एकदम गोरा और हट्टा कट्टा लम्बे कद वाला हूँ। मेरा लंड 9 इंच का है जितनी भी लड़कियों को आज तक चोदा, सबने मेरे लंड की जमकर तारीफ की है और दुबारा चुदने की इच्छा जाहिर की है।

जैसा कि मैंने आपको बताया कि मैं अन्तर्वासना की हर कहानी पढ़ता हूँ तो एक दिन सोचा क्यूँ न मैं भी अपनी सच्ची कहानी लिखूँ। तो आज मैं जो आपको लिखने जा रहा हूँ वो घटना आज से एक साल पहले की है जब मैं गुड़गाँव में नौकरी करता था, हर रोज मेट्रो से जाना होता था.

मेरी एक आदत है कि मैं जब भी मेट्रो सफ़र करता हूँ तो मैं अपने मोबाइल में अन्तर्वासना की कहानी पढ़ता जाता हूँ। और हर लड़की को देख कर सोचता हूँ कि वो लड़की मेरे साथ चुदाई करे और एक दिन यही हुआ।

जब मैं मेट्रो में मैं अन्तर्वासना की कहानी पढ़ रहा था, तभी मेरे बराबर में बैठी एक लड़की जो दिखने में बहुत पैसे वाले घर की लग रही थी, उसकी उम्र 22-24 साल होगी और उसका रंग बहुत गोरा था और क्या कहूँ उसके बारे में, जो एक बार देख ले बस उसका लंड वहीं सलामी देने लग जाये, मोटे मोटे चुच्चे थे उसके, कसम से क़यामत थी वो लड़की!

उस लड़की ने शायद मुझे कहानी पढ़ते देख लिया, वह मुझसे बोली- सुनिए!
मैंने उसे देखा और पूछा- क्या आप मुझसे कुछ कह रही हैं?
तो उसने कहा- हाँ!
मैंने कहा- बोलिए, मैं क्या कर सकता हूँ आपके लिए?

तो उसने कहा- मैंने नया मोबाइल ख़रीदा है, क्या आप बता सकते हैं कि इसमें इन्टरनेट कैसे चलता है?
मैंने हाँ में उत्तर दिया और उसका मोबाइल लेकर उसमे सेट्टिंग कर दी और मोबाइल में इन्टरनेट चला दिया।
उसने मुझे थैंक्स कहा, मैं फिर से अपनी कहानी पढ़ने लगा।

उस लड़की ने दुबारा मुझसे पूछा और जो उसने मुझसे पूछा, मेरे तो वो सुन कर रोंगटे खड़े हो गये और मेरा लंड जो पहले से ही सलामी दे रहा और तन गया, उसने मुझसे पूछा- आप जो कहानी पढ़ रहे हैं, वो क्या मेरे मोबाइल में चला सकते हैं?
मैं थोड़ा झिझक रहा था लेकिन मैंने उससे कहा- सॉरी मैडम, यह कहानी थोड़ी गन्दी वाली है, यह आपके लिए नहीं है।

तो उसने कहा- दिखाओ! इसमें ऐसा कहाँ लिखा है कि केवल लड़के ही इस कहानी को पढ़ेंगे?

मैं चुप रहा। मेट्रो में काफी भीड़ होने से कोई एक दूसरे पर ध्यान नहीं दे रहा था तो मैंने कहा- ठीक है मैडम, जैसी आपकी मर्जी!

मैंने उसका मोबाइल लिया और उसमें अन्तर्वासना चलाने लगा। मैं कहानी ओपन कर ही रहा था, तभी मेरी जांघों पर मैंने कुछ हलचल महसूस की। देखा तो वो लड़की धीरे धीरे मेरी जांघों को सहला रही थी। मुझे भी बहुत अच्छा लग रहा था, मैंने कोई विरोध नहीं किया और अपने बैग उठा कर अपने पैरों पर रख दिया ताकि कोई देख न सके। मैंने उसके मोबाइल में एक कहानी ओपन की, वो भी मेरे साथ कहानी पढ़ रही थी और धीरे धीरे उसके हाथ मेरे लंड तक पहुँच गया।

मैं चुपचाप बैठा था और उसे उसकी मर्जी करने दे रहा था, आखिर मैं एक लड़का हूँ और हर लड़का यही चाहता है कि कोई सुंदर लड़की उसके लंड से खेले और चुदे! यह कहानी आप अन्तर्वासना पर पढ़ रहे हैं।

अब उसकी हरकत इतनी हो गई थी कि मेरे पैंट की चेन खोल कर उसने अपना हाथ अन्दर डाल दिया और मेरा लंड हिलाने लगी और धीरे से मेरे कान में बोली- यह तो बहुत बड़ा है!

दोस्तो, मैं तो बस जन्नत की सैर कर रहा था उस वक्त! अगर यह भारत ना होकर अमेरिका की मेट्रो होती तो मैं उसे वहीं चोद देता। तक़रीबन दस मिनट तक उसने मेरा लंड ऊपर नीचे किया होगा और मुझे लगा कि मेरा निकलने वाला है। मैंने उस लड़की के कान में कहा- मेरा निकलने वाला है!

तो उसने अपना रुमाल निकाला और रुमाल लगा कर हिलाने लगी और मैं थोड़ी देर बाद ही झड़ गया।

और उसने रुमाल से मेरा पूरा पानी पोंछ दिया।

मैंने देखा कि वो उस रुमाल को सूंघ रही थी।

दोस्तो, अभी तक इतना कुछ होने के बाद भी हमें एक दूसरे का नाम भी पता नहीं था।

खैर कोई बात नहीं, क्यूंकि मुझे पता था अगर कोई लड़की इतना कुछ जब मेट्रो बैठ कर सकती है इसका मतलब वो कितनी बड़ी चुदक्कड़ होगी!

थोड़ी देर बाद ही उस लड़की का स्टॉप आ गया जहाँ उसे उतरना था, मैं उससे कुछ भी नहीं कह पा रहा था लेकिन वो लड़की एकदम बहुत ज्यादा मॉडर्न थी तो उसने ही मुझसे कहा- क्या मुझे आपका विज़िटिंग कार्ड मिल सकता है?

मैंने तुरंत देर न करते हुए अपना विज़िटिंग कार्ड जिसमें मेरा मोबाइल नम्बर और इमेल थी, मैंने उसके हाथ में थमा दिया और कहा- आपका कार्ड?

तो उसने अपने बैग से एक कार्ड निकाल कर मुझे दिया और कहा- तुम से मिल कर बहुत अच्छा लगा, मैं आपको कॉल करुँगी।

यह कह कर वो चली गई। जब मैंने उसका कार्ड देखा तो मुझे पता चला कि उसका नाम क्या है और वो किस कंपनी मैं है!

मैं आपको बताऊँगा कि उसके बाद क्या हुआ।

यह मेरी पहली कहानी है अन्तर्वासना पर, मैं चाहता हूँ कि मुझे आप सबका अच्छा रेसपोंस मिले और मैं आगे भी अपनी सच्ची कहानी लिख कर आपको मनोरंजित कर सकूँ! मैं चाहता हूँ कि मुझे आप सबके मेल मेरी मेल आइडी पर मिलें।
धन्यवाद!
आपका प्यारा यश कुमार
[email protected]

#मटर #म #मलकत

Return back to कोई मिल गया

Return back to Home

Leave a Reply