माँ-बहन की चुदाई अपने ही मुस्लिम दोस्त और उसके अब्बू से Part 5

मैंने जा कर दरवाज़ा खोला, सामने मेरी छोटी बहन रिया और मम्मी थी, जिन्हें देख कर मेरी आँखों में आंसू आ गये |

मैं उनसे कुछ बोला नही बस इतना कहा कि दीदी के रूम में चलिए कुछ बात करनी है |

मम्मी बोली- क्या बात है ? क्या हुआ ? सब ठीक तो है ? प्रिया कहाँ है ?

मैं बोला- प्रिया दीदी अपने रूम में है, आप लोग अन्दर आइए |

मम्मी और रिया घर के अन्दर आ गयी और सीधे प्रिया दीदी के रूम में गयी |

प्रिया दीदी इस तरह को देख कर मम्मी चौक गयी और बोली- हे भगवान् ये क्या हुआ बेटी ? तुम ठीक तो हो न ? ऐसे क्यों लेटी हो ?

मेरी छोटी बहन रिया भी दीदी को ऐसे देख कर थोड़ा डर गयी और रोने लगी |

रिया बोली- दीदी ये क्या हुआ ? आपकी ये हालत किसने और क्यों की ?

प्रिया दीदी मम्मी से चिपक कर रोने लगी और मम्मी को सारी बात बता दी | मम्मी सारी बाते सुन कर थोडा परेशान हो गयी लेकिन कुछ बोली नही, मम्मी ने प्रिया दीदी के आंसू पोछे और उन्हें चुप कराया |

कुछ सोचने के बाद मम्मी प्रिया दीदी से बोली कि – तुम दवाई लगा लो, मैं तुम लोगो के लिए खाना बना देती हूँ | इतना बोलते ही मम्मी की आँखों में भी आंसू आ गये |

मैं बोला- मम्मी आप लोगो ने ये बाते मुझे पहले क्यों नही बताई, मैं सब ठीक कर देता |

मम्मी बोली- नही बेटा, ये सब तुम्हारे बस का नही है | इसलिए हमने तुमसे कुछ नही बताया |

प्रिया दीदी बोली- मम्मी आप परेशान न हो सब ठीक हो जायेगा |

मम्मी बोली- क्या ठीक हो जायेगा ? उन लोगो ने मेरी फूल सी बच्ची का क्या हाल कर दिया है |

प्रिया दीदी- मम्मी अब मैं बच्ची नही हूँ, मैं अब बड़ी हो गयी हूँ | वो लोग मेरा एग्जाम ले रहे थे और मुझे पूरी उम्मीद है कि फरहान हमारी मदद जरुर करेगा |

रिया बोली- लेकिन दीदी उन्होंने आपकी ये हालत क्यों की? कौन सा एग्जाम? मुझे बहुत डर लग रहा है |

प्रिया दीदी रिया के सर पर हाँथ फेरते हुए बोली- रिया तुम ऐसे डरोगी तो आगे कैसे काम होगा ?

फिर प्रिया दीदी मम्मी से बोली- मुझे फरहान की बातो से लग रहा है कि वो हमारी मदद जरुर करेगा, लेकिन उसके लिए हम तीनो वो फरहान का बिस्तर गरम करना पड़ेगा |

मम्मी रोते हुए बोली- उस प्रिंसिपल ने दो दिन में 50,000/- रुपये या रिया को अपना बिस्तर गरम करने के लिए मागा है | क्या तुम फरहान को इतनी जल्दी हमारी मदद के लिए तैयार कर सकती हो ?

प्रिया दीदी- इतनी जल्दी कैसे हो सकता है ! तब तो फरहान से आमने-सामने खुल कर बात करनी होगी |

मम्मी बोली- बेटी अगर हम तीनो को बाजारू रंडी बनना ही पड़ रहा है तो किसी घटिया और ब्लैक-मेल करने वाले की रखैल क्यों बने | आज वो पैसे और रिया को माग रहा, कल को कुछ और मांगेगा | जब हमारे पास कुछ नही बचेगा तो वो हमें लात मार कर किसी रंडी कोठे पर बेच देगा | अगर हमें रखैल बनना ही है तो ऐसे इन्सान की रखैल बने जो हमारी मदद करे | लेकिन बेटी क्या तुम्हे पूरा यकीन है कि फरहान उस कमीने प्रिंसिपल जैसा नही निकलेगा ?

इतना सुन कर मैं मम्मी से बोला- मम्मी आप फरहान से बेफिक्र रहो, वो कुछ भी करे, वो कितना भी गन्दा काम क्यों न करे पर आज तक उसने किसी को ब्लैक-मेल नही किया और न ही किसी के साथ कोई जबरदस्ती करता है | मैं उसके साथ एक साल से हूँ मैं उसे अच्छी तरह से जानता हूँ | वो हमारे घर की इज्जत बीच बाज़ार में कभी नही उछालेगा |

प्रिया दीदी – हाँ दीपक तुम सही बोल रहे हो | मम्मी मुझे भी ऐसा ही लगता है कि फरहान कभी किसी को ब्लैक-मेल नही करेगा |

मेरी छोटी बहन रिया बोली- ठीक है भईया, अगर ऐसा है तो अब आप ही अपने दोस्त फरहान जी से जल्दी बात करिए | मैं नंगी होने के लिए तैयार हूँ |

रिया की ये बात सुन कर हम सब हँस पड़े |

मैंने मम्मी से पूछा कि क्या मैं अभी फरहान को कॉल करू ?

मम्मी ने हाँ बोल दिया और मैंने अपने मोबाइल से फरहान को कॉल किया और मोबाइल में लाउड-स्पीकर ऑन कर दिया |

फरहान- हेल्लो, हाँ दीपक क्या हुआ ? कोई गड़बड़ हो गयी क्या ?

मैं- हेल्लो जीजू, नही कोई गड़बड़ नही हुयी, क्या तुम मेरे घर आ सकते हो ? मुझे तुमसे बहुत जरुरी बात करनी है |

मैंने जैसे ही फरहान को जीजू बोला सब को हंसी आ गयी, हंसने की आवाज़ फरहान ने भी सुनी | रिया के हंसने की आवाज़ को फरहान तुरंत पहचान गया | वो जान गया कि मैंने अपने मोबाइल में लाउड-स्पीकर ऑन किया है और घर के सभी लोग मेरे साथ ही बैठे सब सुन रहे है |

फरहान बोला- रिया तुझे बहुत हंसी आ रही है, मुझे मारने का इरादा है क्या ! जो सब लोग मुझे घर बुला रहे हो ?

रिया बोली- आपने मेरी दीदी का जो हाल किया है उसका बदला लेना है |

इतना बोल कर रिया फिर से हंसने लगी, रिया को ऐसे हँसता देख कर मुझे बहुत अच्छा लगा |

मम्मी मुस्कुराते हुए रिया से बोली- चुप करो, हमेशा मजाक करती रहती हो |

मम्मी फरहान से बोली- फरहान जी हमें आपकी मदद चाहिए इसलिए हमने आपको कॉल किया है | हम बहुत बड़ी मुसीबत में फस गए है | सारी बाते मोबाइल पर नही बता सकती | आप घर आ जाइए, आपको जो चाहिए जैसे चाहिए वो सब आपको मिल जायेगा | आप जल्दी से घर आ जाइए |

फरहान बोला- ठीक अंटी जी मैं थोड़ी देर में आ रहा हूँ |

इतना बोल कर उसने कॉल काट दी |

मैं बोला- मम्मी फरहान को आने में ज्यादा से ज्यादा 15 – 20 मिनट लगेंगे |

मम्मी बोली- रिया तुम हाँथ-मुंह धुल लो और स्कूल की ड्रेस बदल लो, तब तक मैं सब के लिए चाय बनती हूँ | फरहान जी आते ही होगे |

रिया बोली- मम्मी मैं क्या पहनू ? जो फरहान जी को मैं अच्छी लगूं |

मम्मी मुस्कुराते हुए बोली- रिया ये तो तू अपने भईया से पूछ कि फरहान जी को क्या पसंद है ?

मैं भी मुस्कुराते हुए रिया से बोला- रिया तू मिनी स्कर्ट और स्लीव-लेस टाइट टॉप पहन ले, फराह को ऐसी ड्रेस पसंद है |
मम्मी मुस्कुराते हुए मुझसे बोली- बेटा मैं भी अपने कपड़े बदल लूँ या ऐसे ही अच्छी लग रही हूँ | फरहान जी को मैं अच्छी लगूंगी या नही ?

मम्मी ने हरे रंग की ट्रांसपेरेंट साड़ी और उसके साथ का महीन कपड़े का ब्लाउज पहना था, जिसमे उनकी सफ़ेद ब्रा साफ़ दिख रही थी | मेरी मम्मी बहुत अच्छी और सुन्दर लग रही थी |

मैं भी मुस्कुराते हुए बोला- मम्मी आप बहुत प्यारी और सुन्दर लग रही हो, फरहान देखते ही आपको पसंद कर लेगा

मम्मी प्रिया दीदी से बोली – बेटी तुम भी कुछ पहन लो, ऐसे अच्छी नही लग रही हो |

प्रिया दीदी – मम्मी अब मुझे कपडे पहनने या न पहनने से क्या फर्क पड़ता है, मैंने ऐसे ही ठीक हूँ |

प्रिया दीदी की बात सुन कर मम्मी मुस्कुराने लगी और बोली की अच्छा ठीक है जैसा तुम सही समझो |

घर में अब थोडा ख़ुशी का माहोल बन गया था, हमें फरहान से बहुत उम्मीद थी कि वो हमारे घर की सारी परेशानी ख़त्म कर देगा | मम्मी एक प्यारी सी मुश्कान देते हुए किचेन में चाय बनाने चली गयी और रिया दूसरे रूम में चली गयी | 15 मिनट में रिया कपड़े बदल कर आ गयी | रिया ने पिंक कलर की मिनी स्कर्ट और पीले रंग स्लीव-लेस टाइट टॉप पहनी थी | मैं अपनी छोटी बहन रिया को देखता ही रह गया | टाइट टॉप में उसकी छोटी-छोटी चूची काफी कसी और तनी हुयी लग रही थी | रिया की स्कर्ट सिर्फ उसके चूतड़ से थोडा ही नीचे तक ही थी | रिया की जांघे एकदम गोरी और चिकनी थी, उनकी जाघों एक भी रोया नही था | सच बोलू तो मुझे अपनी छोटी बहन रिया को ऐसे देख कर बहुत अच्छा लगा और बहुत ख़ुशी भी हो रही थी | मेरी बहन रिया बहुत सेक्सी और मस्त माल लग रही थी |

रिया मुस्कुराते हुए मुझसे बोली- भईया मैं कैसी लग रही हूँ ?

मैं बोला- रिया तू बहुत प्यारी लग रही है | फरहान तुझे देख कर खुश हो जायेगा |

ये सुन कर रिया बहुत खुश हो गयी और मेरे सीने से लग कर चिपक गयी और बोली – थैंक्स भईया |

मैंने भी अपनी छोटी बहन को अपनी बाहों में भर लिया और प्यार से उसके सर पर अपना हाँथ फेरा |

तभी घर की डोर-बेल बजी | हम सब समझ गये कि फरहान आ गया है, हम सब बहुत खुश हो गये |

रिया मुझसे चिपके हुए ही बोली- भईया मुझे डर लग रहा है, मैं मम्मी के पास किचेन में जा रही हूँ, आप जा कर दरवाज़ा खोलिए |

इतना बोल कर रिया ने दुर्गा माँ के सामने हाँथ जोड़े और बोली- हे! दुर्गा माँ सब ठीक कर देना, हमारी मदद करना | इतना बोल कर रिया किचेन में मम्मी के पास चली गयी और मैंने जा कर दरवाज़ा खोला |

फरहान मुझे देख कर मुस्कुराता हुआ बोला- क्यों बे ! क्या हो गया ? तेरी मम्मी ने मुझे ऐसे घर पर क्यों बुलाया ? क्या वो भी मेरी रंडी बनना चाहती है !!

मैं बोला- अरे यार अन्दर आओ, सब बताता हूँ |

मैं और फरहान घर के अन्दर आये और सीधे प्रिया दीदी के रूम में चले गये |

फरहान को देख कर प्रिया दीदी बोली- आइए फरहान जी | देखिये आपने और आपके दोस्तों ने मेरी क्या हालत कर दी है |

फरहान प्रिया दीदी को ऐसे देख कर मुस्कुराया और बोला- मैंने तुझे पहले ही बोला था कि दर्द सहने की आदत डाल ले | क्या ज्यादा दर्द हो रहा है ?

प्रिया दीदी बोली- जी बहुत दर्द हो रहा है, मैं ठीक से बैठ भी नही पा रही हूँ और न ही ब्रा पहन पा रही हूँ  |

फरहान बोला- मैं तेरे चूतड़ पर किस कर लू फिर तेरा दर्द कम हो जायेगा |

फरहान थोडा सा मुस्कुराया और उसने मेरे सामने मेरी प्रिया दीदी के दोनों चूतड़ो और चुचियों पर अपने हाँथ से थोडा सहलाया और फिर दीदी को किस कर ली |

फरहान के इस तरह किस करने पर प्रिया दीदी थोडा मुस्कुरायी और बोली- थैंक्स फरहान जी |

तब तक मम्मी भी प्रिया दीदी के रूम में आ गयी और फरहान को देख कर बोली- फरहान जी देखिये आपने मेरी बच्ची की क्या हालत कर दी है | बेचारी ठीक से बैठ भी नही पा रही है | सुन्दर चीजो का मज़ा लिया जाता है, उन्हें बर्बाद नही किया जाता | रिया देख कर डर गयी थी और रो रही थी, किसी तरह उसे समझाया है |

मम्मी को देख कर फरहान मुस्कुराया और बोला- ठीक है अब मैं ऐसा नही करूँगा | रिया कहाँ है ?

मम्मी बोली- वो आपके लिए चाय बना रही है, आती ही होगी |

फरहान मम्मी से बोला- आपने मुझे क्यों बुलाया ? ऐसा क्या जरुरी काम है ?

तब तक रिया सब के लिए चाय ले कर रूम में आ गयी | उसके चेहरे पर हलकी सी मुश्कान थी |

रिया को मिनी स्कर्ट और स्लीव-लेस टॉप में देख कर फरहान बोला- क्या बात है रिया बहुत मस्त और सेक्सी माल लग रही हो |

रिया शर्मा गयी और मुस्कुराते हुए बोली- जी थैंक्स |

रिया को ऐसे शरमाते हुए देख कर हम सब भी मुस्कुरा दिए |

मम्मी बोली- फरहान जी आप बैठिये और चाय पीजिये फिर मैं आपको सब बताती हूँ |

फरहान बैठ गया और हम सब चाय पीने लगे | फरहान ने मेरी बहन रिया को अपने बगल में बैठाया | चाय पीते-पीते मम्मी ने फरहान को सारी बाते बताई |

सारी बाते सुनने के बाद फरहान कुछ सोच कर मम्मी से बोला- मैं आपके लिए अभी उस प्रिंसिपल के बारे में कुछ बोल नही सकता, रिया को जो लड़का परेशान करता है उसे मैं कल ही ठीक कर दूंगा | आपके लिए मुझे अपने अब्बू से बात करनी होगी, मेरे अब्बू आपका काम कर सकते है पर उसके लिए वो आपसे कुछ भी मांग सकते है, हो सकता है कि वो आपको ही मांग ले, आपको मेरे अब्बू के साथ कई राते गुजारनी पड़े और उनका बिस्तर गरम करना पड़े | मेरे अब्बू को हिन्दू औरते और लड़कियां बहुत पसंद है | अगर आप मेरे अब्बू को अच्छी लगी और मेरे अब्बू ने आपको पसंद कर लिया तो वो आपका काम जरुर कर देंगे और हो सकता है वो आपको अपनी रखैल बना ले | आपको मेरे अब्बू की रंडी बन कर रहना पड़ेगा और मेरे अब्बू की रखैल मेरी भी रखैल होती है | आप अच्छी तरह सोच लीजिये |

फरहान ये बाते बोलते-बोलते रिया की जाघों को सहला रहा था | रिया चुप-चाप फरहान के बगल में बैठी थी, वो फरहान को मना भी नही कर रही थी |

मम्मी बोली- फरहान जी अब इसमें सोचना क्या है, किसी गैर मर्द का बिस्तर गरम करने से अच्छा है कि मैं किसी नेक-दिल इंसान का बिस्तर गरम करू, जो हमारी मदद कर रहा है | कम से कम आप लोग ब्लैक-मेल तो नही करेंगे | मैं अब आपकी और आपके अब्बू की रखैल बन कर रहूंगी | आप और आपके अब्बू जो बोलेंगे मैं वो सब करने के लिए तैयार हूँ |

ये सुन कर फरहान के चेहरे पर मुश्कान आ गयी और वो बहुत खुश हो गया, अब उसके बात करने का तरीका ही बदल गया |

फरहान बोला- ये हुयी न रंडियों वाली बात ! प्रिया तो मेरी रखैल बन ही गयी है और आज से तू भी मेरी रखैल बन कर रहेगी | तुझे पहले मेरे अब्बू रंडी की तरह चोदेंगे और उसके बाद मैं तुझे चोदुंगा |

मम्मी मुस्कुराते हुए बोली- जी थीक है फरहान जी | लेकिन पहले हमारी परेशानी को ख़त्म करिए |

फरहान बोला- ठीक है मैं अभी अपने अब्बू से बात करता हूँ |

इतना बोल कर फरहान से अपने अब्बू को कॉल किया और मोबाइल का लाउड-स्पीकर ऑन कर दिया | मम्मी उठ कर फरहान के बगल में खड़ी हो गयी जिससे वो सारी बाते ठीक से सुन सके | फरहान के अब्बू का नाम तमसील खान था |

तमसील जी- हाँ फरहान, कैसे हो और कहाँ हो?

फरहान- जी अब्बू मैं अच्छा हूँ |

तमसील जी- हाँ बोलो फरहान कैसे फ़ोन किया ?
फरहान- अब्बू मेरा एक दोस्त है, मैं उसके घर हूँ, उसका परिवार एक परेशानी में है और वो आपकी मदद चाहते है |
तमसील जी- कैसी परेशानी ? मुझसे क्या मदद चाहते है ?

फरहान ने पहले मेरे परिवार के बारे में सब बताया कि मेरे पापा अब हमारे साथ नही रहते है और फिर उसने मम्मी और प्रिंसिपल वाली सारी बात बताई |

फिर फरहान बोला- अब्बू मेरे दोस्त की दो बहने है, दोनों बहुत मस्त माल है और उन दोनों पर मेरा दिल आ गया है | मेरे दोस्त की मम्मी भी बहुत सेक्सी और मस्त माल है |

इतना बोल कर फरहान ने साड़ी के ऊपर से ही मेरी मम्मी की गांड पर हाँथ रख दिया और मम्मी के चूतड़ दबाने लगा | मम्मी थोडा शर्मा गयी और अपनी गर्दन नीचे कर के मुस्कुराने लगी |

तमसील जी हँसने लगे और बोले- अच्छा तो ये बात है | बेटा जवानी में लड़कियों के मज़े नही लोगे तो कब लोगे | मेरे लिए भी कुछ सोचा है या नही ? बेटा तुम तो जानते हो की मैं ऐसे काम करने के पैसे लेता हूँ |

फरहान – अब्बू इनके पास पैसे नहीं है |

तमसील – बेटा फिर तो एक ही रास्ता है कि तुम अपने दोस्त और उसकी मम्मी को ले कर यहाँ आ जाओ, अगर उसकी मम्मी मुझे पसंद आ गयी तो तुम्हारे दोस्ती की मम्मी को मेरा बिस्तर गरम करना पड़ेगा तब मैं उसका काम कर दूंगा | अगर उसकी मम्मी मुझे पसंद न आयी तो फिर मैं सोचूंगा कि मैं ये काम करूँ या नहीं | वैसे भी बहुत टाइम हो गया मैंने किसी को चोदा नही (और वो हँसने लगे)

फरहान – अब्बू मेरे दोस्ती की मम्मी बहुत सुन्दर और मस्त माल है आपको जरूर पसंद आएगी | (फरहान ये बात बोलते हुए मम्मी के चूतड़ दबा रहा था और मम्मी शर्म से अपना सर निचे किये हुए थोड़ा मुस्कुरा रही थी )

तमसील – बेटा अगर ऐसी बात है तो उसको ले कर यहाँ आ जाओ | मैं तुम्हारे दोस्त की मम्मी को आज अपनी रंडी बना कर चोदुँगा और कल उसका काम हो जायेगा |

फरहान- अब्बू काम पूरा होने की क्या गारंटी है ? अगर इनकी परेशानी दूर न हुयी तो मैं अपने दोस्त की बहनों को हाँथ नही लगाऊंगा |

तमसील – बेटा अगर तुम्हारे दोस्त की मम्मी मुझे पसंद आ गयी तो 100% गारंटी है |

फरहान- अब्बू आप उसकी चिन्ता न करे | मेरे दोस्ती की मम्मी में बगल में ही खाड़ी है, बहुत मस्त और सेक्सी माल है, आपको जरुर पसंद आएगी | क्या कभी ऐसा हुआ है कि मैंने आज तक आपको जितनी भी लडकियाँ या औरते दी है वो आपको पसंद न आयी हो |

तमसील – बेटा ये तो तुम सच बोल रहे हो, ऐसा करो फिर तुम थोड़ी देर में अपने दोस्त और उसकी मम्मी दोनों को ले कर यहाँ आ जाओ |

फरहान – जी ठीक है अब्बू मैं इन्हें ले कर थोड़ी देर में आता हूँ |

इतना बोल कर फरहान ने कॉल काट दी, फरहान का हाँथ अभी भी मम्मी की गांड पर ही था और मम्मी शर्म से अपना सिर निचे झुकाए खाड़ी थी, मम्मी के चेहरे पर थोड़ी मुस्कुराहट और एक सकून दिख रहा था |

मम्मी बोली- थैंक्स फरहान जी | आपने हमारे ऊपर बहुत बड़ा उपकार किया है अब आप जो बोलेगे हम वो सब करेगे | हम आपकी सारी बाते मानेगे |

फरहान मम्मी की गांड मसलते हुए बोला – रश्मि अगर तुझे मेरे अब्बू ने पसंद कर लिया तो वो तुझे अपनी रखैल बना लेंगे | अब तू एक रंडी बनने जा रही है | तुम्हे मेरी और मेरे अब्बू की वफादार रखैल बन कर रहना पड़ेगा | हम जो बोलेगे जैसा बोलेगे तुम सब को वो सब करना पड़ेगा | हम जब चाहे और जहा चाहे वहाँ तुम्हे चोदेगे तू कभी हमें मना नही करेगी  और हमारी वफादार पालतू कुतिया बन कर रहना पड़ेगा | अगर हम तुझे अपना थूक और मूत पीने के लिए बोलेगे तो तू एक अच्छी और पालतू कुतिया की तरह वो भी पीयेगी, कभी मना नही करेगी ass="mycode_color">Computer-class-se-bistar-tak-ka-safar/">Class="mycode_size">| (फरहान अब मम्मी को नाम ले कर बुला रहा था)

इतना बोल कर फरहान ने मेरी बहन रिया को उठा कर हम सब के सामने अपनी गोद में बैठा लिया और उसकी नंगी जांघो को सहलाने लगा |

मम्मी – जी ठीक है फरहान जी हमें सब मंज़ूर है |

फरहान – रश्मि अब तू अच्छे से तैयार हो जा जैसे कोई नयी दुल्हन तैयार होती है | हमें थोड़ी देर में अब्बू के पास जाना है | आज तेरी सुहागरात है | मेरे अब्बी तेरा काम करा देंगे | तू मेरे अब्बू को अच्छे से खुश कर देना |

मम्मी – फरहान जी आप उसकी चिन्ता मत करिए | आपके अब्बू मुझे जरुर पसंद कर लेंगे और मैं आपके अब्बू को जरुर खुश करुँगी | मैं अभी तैयार हो कर आती हूँ |

इतना बोल कर मम्मी तैयार होने के लिए दूसरे कमरे में जाने लगी |

मम्मी को जाते हुए देख कर फरहान बोला – सुन रश्मि कुतिया ! अपने जिस्म के सारे बाल अच्छे से साफ़ कर लेना | मुझे और मेरे अब्बू को सुन्दर जिस्म पर बाल पसंद नही है |

प्रिया दीदी हँसते हुए बोली – हाँ मम्मी इन लोगे को लड़की या औरत के जिस्म पर बाल नही पसंद है |

मम्मी शर्मा गयी और मुस्कुरा कर बोली – जी थीक है, मैं सारे बाल अच्छे से साफ कर लूंगी | (इतना बोल कर मम्मी थोडा मुस्कुराते हुए तैयार होने दूसरे कमरे में चली गयी)

फरहान अब रिया से बात करने लगा |

फरहान – रिया तू किस क्लास में पढ़ती है ?

रिया – जी 11th क्लास में गयी हूँ |

फरहान – वाह ! तब तो तू बड़ी हो गयी है |

इतना बोल कर फरहान ने मेरे सामने रिया के गाल पर किस कर लिया | रिया में मुस्कुरा कर मेरी तरफ देखा और फिर रिया ने भी फरहान के गाल पर किस कर लिया |

फरहान – रिया तेरे गाल और ओंठ तो बहुत मुलायम है
रिया – मेरे ओंठ और गाल मुलायम नही होंगे तो किसके होगे !!

फरहान – अच्छा मैं भी देखूं कि मेरी होने वाली नयी और कमसिन रखैल का क्या क्या मुलायम है

रिया मुस्कुराते हुए बोली  – हाँ अच्छे से देख लीजिये

फरहान – तेरी चूची का साइज़ क्या है मेरी कमसिन रंडी ?

ये बोलते ही फरहान ने मेरी बहन रिया की चूची अपना हाँथ रख कर धीरे से दबा दिया

रिया – 28C की ब्रा पहनती हूँ

फरहान रिया की चूची दबाते हुए पूछा  – तेरी गांड का साइज़ क्या है ?

रिया मुस्कुराते हुए बोली – आप ही नाप कर देख लीजिये

फरहान हँसते हुए बोला – अच्छा रंडी तो खड़ी हो जा

मेरी बहन रिया फरहान की गोद से उठ कर उसके सामने खाड़ी हो गयी | मैं फरहान की पैंट में उसके लण्ड का तनाव देख सकता था |  रिया जब खड़ी  हुयी तो फरहान ने अपने दोनों हाँथ रिया की स्कर्ट में अन्दर डाल कर आपकी गांड पर रख दिए और पैंटी के ऊपर से ही रिया के चूतड़ दबाने लगा |

फरहान – रिया तेरी गांड भी बहुत मुलायम है |

इतना बोल कर फरहान ने मेरी छोटी बहन रिया की पैंटी को सरका कर नीचे कर दिया दिया | रिया की पैंटी उसके घुटने तक नीचे आ गयी थी | फरहान ने अब रिया की स्कर्ट को ऊपर उठा दिया और अपने हाँथ से उसके नंगे चूतड़ सहला और दबा रहा था | मैंने पहली बार अपनी छोटी बहन रिया को ऐसे देखा था | उसके चूतड़ गोर और हल्के लाल थे | रिया के चेहरे पर एक ख़ुशी दिखाई दे रही थी | ये सब देख कर प्रिया दीदी मुस्कुरा रही थी | मैं कमरे में एक किनारे खड़ा हो कर दे सब देख रहा था और मुझे भी अच्छा लग रहा था | फरहान कुछ देर रिया की गांड को दबाता रहा फिर अपना एक हाँथ रिया की बुर पर रख दिया, फरहान ने जैसे ही मेरी बहन रिया की बुर पर अपना हाँथ रखा रिया के मुंह से एक हलकी सी सिसकारी निकल गयी और शर्मा कर रिया ने अपनी गर्दन नीचे कर ली | मैंने देखा रिया की बुर पर बहुत कम और छोटे रेशे जैसे बाल थे | रिया की गुलाबी बुर फूली हुयी और मुलायम दिख रही थी | जिसे देख कर मेरा लंड भी पैंट में खड़ा होने लगा | फरहान को रिया के साथ ऐसा करते हुए देख कर मुझे भी अच्छा लग रहा था |

रिया की बुर सहलाते हुए फरहान बोला – वाह! रिया तेरी बुर तो बहुत मुलायम और प्यारी है |

रिया ने अपना सिर थोडा ऊपर उठाया और बस थोडा सा मुस्कुरा दी | फरहान ने रिया के टॉप के ऊपर से ही रिया की चूची पर किस करने लगा और अपनी एक उंगली रिया की प्यारी सी बुर में डाल दी | रिया के मुंह से आह की आवाज़ निकल गयी और वो शर्मा कर अपनी गर्दन फिर से नीचे कर ली | रिया के मुंह से आह की आवाज़ सुन कर मैं और प्रिया दीदी दोनों हंसने लगे | कुछ देर तक फरहान अपनी उंगली रिया की बुर में अन्दर-बाहर करने लगा और रिया की बुर गीली हो गयी थी |

फरहान – रिया तेरी बुर तो बहुत टाइट और मस्त है | तेरी बुर चोदने में बहुत मज़ा आएगा, मैं तुझे अपनी सबसे प्यारी रखैल बना कर रखूँगा और रोज रंडी की तरह चोदूंगा | अब अपनी चूची दिखा |

रिया ने शर्माते हुए अपना टॉप हाँथ से पकड़ कर ऊपर उठा दिया, छोटी सी ब्रा में कैद संतरे जैसी छोटी-छोटी चूची फरहान के सामने आ गयी और फरहान ब्रा के ऊपर से ही मेरी बहन रिया की चूची पर किस करने लगा | रिया में मुंह से सिसकियाँ निकलने लगी | रिया ने मस्ती में अपनी जांघो को थोडा खोल दिया और अपनी आँखे बन्द कर के मज़े लेने लगी | ये सब देख कर मुझे भी मज़ा आने लगा और मैं अपना लंड पैंट के ऊपर से सहलाने लगा जिसे देख कर प्रिया दीदी हंसने लगी | अब मुझे कोई शर्म और डर नही था | कुछ देर फरहान रिया की बुर में अपनी उंगली अन्दर-बाहर करने के बाद उसने अपनी उंगली बाहर निकली और मेरी प्यारी छोटी बहन रिया के मुंह में डाल दी जिसे रिया प्यार से मुस्कुराते हुए चूसने लगी |

#मबहन #क #चदई #अपन #ह #मसलम #दसत #और #उसक #अबब #स #Part

माँ-बहन की चुदाई अपने ही मुस्लिम दोस्त और उसके अब्बू से Part 5

Return back to Adult sex stories, Desi Chudai sex stories, hindi Sex Stories, Indian sex stories, Malayalam Kambi Kathakal sex stories, Meri Chudai sex stories, Other Languages, Popular Sex Stories, Top Collection, पहली बार चुदाई, रिश्तों में चुदाई, लड़कियों की गांड चुदाई, सबसे लोक़प्रिय कहानियाँ, हिंदी सेक्स स्टोरी

Return back to Home

Leave a Reply