पड़ोसी की बीवी की पलंगतोड़ चुदाई | Padosi ki biwi ki palangtod chudai

पड़ोसी की बीवी की पलंगतोड़ चुदाई | Padosi ki Biwi ki palangtod chudai

sex stories हैल्लो दोस्तों, xxx story मेरा नाम विकास है और मेरी उम्र 25 साल की है। जबलपुर का रहने वाला हूँ और यह बात आज से 6 महीने पहले की है। मेरे लंड की साईज 7 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है और मेरी बॉडी मस्त है और में दिखने में हैंडसम हूँ। अब में आपका समय ख़राब ना करते हुए सीधा अपनी स्टोरी पर आता हूँ। एक दिन मेरे बाजू के घर में एक कपल रहने आया हुआ था, जिनमें से पति की उम्र करीब 30 साल की होगी और उसकी वाईफ की उम्र 28 साल की होगी। उसका नाम तसनीम था, तसनीम दिखने में बहुत ही खूबसुरत थी और उसका पति ठीक ठाक था। उसका पति एक मल्टीनेशनल कम्पनी में सेल्स मैनेजर था इसलिए उसको कम्पनी के काम के सिलसिले में ज्यादातर बाहर ही रहना होता था। अब इसी दौरान उनका हमारे घर में आना जान हो गया था और वो हमारे घर में सबको जानती थी।

अब तसनीम धीरे-धीरे मेरे घरवालों से घुलमिल गयी थी इसलिए उसका पति भी हमारे घर में आता जाता रहता था। फिर उस वक़्त उसने मुझसे दोस्ती की। अब जान पहचान होने की वजह से में भी उसके घर हमेशा आता जाता रहता था और बिना रोक टोक किए चला जाता था। फिर एक दिन क्या हुआ? कि तसनीम के पति को कंपनी के काम के सिलसिले में 1 महीने के लिए बाहर जाना हुआ और मेरे घर में मेरे एक रिश्तेदार की मौत हो जाने की वजह से सब 1 हफ्ते के लिए मेरे रिश्तेदार के वहाँ चले गये और मेरी जॉब होने की वजह से में नहीं गया था। तब मम्मी ने तसनीम से कहा कि तसनीम हम लोग 1 हफ्ते के लिए बाहर जा रहे है तो तुम इसका खाने पीने का ध्यान रखना। तब तसनीम ने कहा कि ठीक है, लेकिन मुझे नहीं पता था कि वो मेरा इतना ख्याल रखेगी और मेरे घरवाले उसको बोलकर निकल गये।

अब मेरे घर में भी कोई नहीं था और उसके घर में भी कोई नहीं था और अब तसनीम अपने घर में थी। तब मैंने सोचा कि घर में कोई नहीं है तो एक ब्लू फिल्म लगाई जाए और देर रात तक देखूँगा, क्योंकि उस वक़्त रात के 8 बज रहे थे। तभी अचानक से तसनीम की आवाज आई विकास खाना खा लो, तो में उसके घर खाना खाने चला गया और फिर बाद में मैंने भाभी से कहा कि भाभी मुझे बाज़ार में थोड़ा काम है तो में थोड़ी देर में आता हूँ। तब उन्होंने कहा कि ठीक है और फिर में बाज़ार जाकर ब्लू फिल्म की सी.डी लेकर आ गया और दरवाजा बंद किया, लेकिन में स्टॉपर लगाना भूल गया था और घर में नंगा होकर अपने लंड को अपने हाथों में लिए ब्लू फिल्म देख रहा था। तभी पता नहीं भाभी कब आई? और ब्लू फिल्म देख रही थी और मेरा तमाशा भी देख रही थी। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर में बोला कि भाभी आप यहाँ क्या कर रही हो? तो तब भाभी ने कहा कि कुछ नहीं, में देखने आई थी कि तुम क्या कर रहे हो? और फिर हल्की सी सेक्सी स्माइल देकर चली गयी और में ब्लू फिल्म देखकर सो गया। फिर दूसरे दिन सुबह के करीब 6 बज रहे थे (भाभी को जल्दी उठकर नहाने की आदत थी) तो तब मुझे घंटी सुनाई दी। तब मुझे लगा कि दूधवाला होगा, लेकिन दरवाजा खोलकर देखा तो दूधवाले की जगह पर भाभी थी और भाभी अपने हाथ में कपड़े ब्रा पेंटी लेकर आई थी और मुझसे कहा कि विकास मेरे घर के बाथरूम में पानी नहीं आ रहा है, तो क्या में तुम्हारे बाथरूम का उपयोग कर सकती हूँ? तो तब मैंने कहा कि नेकी और पूछ-पूछ और फिर वो मुझे थैंक्स कहकर बाथरूम में चली गयी। तब मुझे पता नहीं था कि भाभी ने बाथरूम के दरवाजे पर स्टॉपर नहीं लगाया है, मेरे बाथरूम के दरवाजे में एक छेद था, जिसमें से सब कुछ दिख रहा था। तब मैंने जाकर भाभी को पूरा नंगा देखा, वाह क्या बूब्स मस्त मस्त थे? जैसे भरे-भरे आम और उसकी चूत भी शेव थी और फिर में उसे देखता रहा।

तभी अचानक से पता नहीं क्या हुआ? और फिर भाभी अचानक से वहाँ पर से हट गयी, क्योंकि वो जानती थी कि में उसे देख रह हूँ इसलिए वो वहाँ से हट गयी थी और अचानक बाथरूम का दरवाजा खुल गया। अब भाभी मेरे सामने अचानक आ खड़ी हुई थी और में डर गया था। फिर उसने मुझसे से कहा कि क्या देख रहे हो? तो तब मैंने कहा कि कुछ नहीं। फिर उसने हल्की सी स्माइल दी और कहा कि आ जाओ अंदर, साथ में नहाते है। में जल्दी से अंदर चला गया और फिर भाभी ने दरवाजा बंद कर दिया। अब भाभी मेरे सामने बिल्कुल नंगी खड़ी थी, क्या फिगर था? में बता नहीं सकता। फिर भाभी बोली कि देखते ही रहोगे या आगे भी कुछ करोगे तो में फटाफट से भाभी के सामने अपने सभी कपड़े उतार कर नंगा हो गया।

अब भाभी भी मेरे नंगे बदन को देखकर खुश हो गयी थी और मुझसे कहा कि विकास में भी तुमसे चुदवाना चाहती थी, लेकिन कभी मौका नहीं मिलता था और आज मौका मिला है, चलो आज पूरी जवानी का मज़ा लेते है। फिर मैंने भाभी को किस किया तो तब भाभी ने भी मुझे किस किया। अब में धीरे-धीरे उसके बूब्स को अपने मुँह में लेते हुए उसके बूब्स को दबा रहा था और वो भी मज़ा ले रही थी। फिर उसने मुझे रोकते हुए कहा कि विकास अब मेरी चूत चाटो। तब में उसके नीचे बैठ गया और उसकी चूत को जोर-जोर से चूसता रहा और वो ज़ोर से, ज़ोर से, आहह और करो, आह, इसी तरह से चूसते रहो, आह, बोले जा रही थी और उसका मज़ा लेती रही। तभी उसका पानी निकलने लगा और में उसका सारा का सारा पानी पी गया। फिर उसने मुझसे कहा कि विकास में तुम्हरा लंड चूसना चाहती हूँ। तब मैंने अपना लंड उसके मुँह दे दिया और वो ज़ोर-ज़ोर से चूसने लगी थी। अब मुझे भी मज़ा आने लगा था और में जोर से आआ, आआआ, भाभी कहने लगा था।

फिर उसने कहा कि मुझे भाभी नहीं मेरे नाम से पुकारो, तो में उसको नाम से पुकारने लगा। अब मेरा वीर्य निकलने वाला था तो तब मैंने तसनीम से कहा कि मेरा निकलने वाला है, कहाँ निकालूं? तो तब उसने कहा कि मेरे मुँह में ही अपना वीर्य निकाल दो और फिर वो ज़ोर-ज़ोर से मेरे लंड को चूसने लगी और में उसके मुँह में ही झड़ गया और वो पूरा का पूरा एक बूँद भी बिना गिराए हुए सब चाट गयी। फिर उसने कहा कि आजा अब जवानी का मज़ा लिया जाए। तब मैंने कहा कि ठीक है। फिर उसने फिर से मेरा लंड ज़ोर ज़ोर से चूसा और मेरे लंड को खड़ा कर दिया। फिर उसने कहा कि आ जाओ और अपने दोनों पैर फैला दिए और मुझे बीच में आने को कहा तो में बीच में चला गया। फिर उसने मेरे लंड को अपने हाथ में लिया और कहा कि घुसा दो, तो में अपना लंड घुसाने लगा था। अब जब में अपना लंड घुसाता तो उसको बहुत दर्द होता था। फिर तब में कहता था कि क्यों चिल्ला रही हो? तो तब वो बोलती थी कि तुम्हारा लंड बहुत मोटा और लम्बा है और में कई दिनों से चुदी नहीं हूँ इसलिए तकलीफ़ हो रही है, लेकिन उसने कहा कि तुम डरो मत, तुम घुसा दो और में धीरे-धीरे अपना लंड घुसाने लगा, क्योंकि उस वक़्त उसको बड़ी तकलीफ हो रही थी।

फिर जब मैंने धीरे-धीरे करके अपना लंड पूरा घुसा दिया तो तब उसने कहा कि अब थोड़ी देर रुक जाओ। फिर में उसकी चूत में अपना लंड डाले हुए रुक गया। फिर जब उसका दर्द थोड़ा कम हुआ तो तब उसने कहा कि विकास शुरू हो जाओ और फिर में धीरे-धीरे करके उसको चोदता रहा और अब उसको मज़ा भी आ रहा था और वो बोल रही थी विकास ज़ोर-ज़ोर से करो और जोर से विकास, ज़ोर-ज़ोर से करो। फिर में उसको ज़ोर-ज़ोर से चोदता रहा और वो उस चुदाई के वक्त करीब 3 बार झड़ चुकी थी, लेकिन में अभी तक नहीं झड़ा था और फिर करीब 30 मिनट के बाद में भी उसकी चूत में ही झड़ गया। फिर उसके बाद मैंने उससे पूछा कि क्यों मज़ा आया? तो उसने कहा कि हाँ। फिर उसने मुझसे यह भी कहा कि उसका पति हमेशा आउट ऑफ स्टेशन रहने की वजह से वो सेक्स की प्यासी रह जाती थी। तब मैंने कहा कि कोई बात नहीं, अब में हूँ ना, तो वो मुस्कुरा दी और फिर हम साथ में आधे घंटे तक नहाए और उन 7 दिनों में हम लोगों ने बहुत इन्जॉय किया और फिर एक दिन उसके पति का ट्रान्सफर हो जाने की वजह से वो चली गयी और में अकेला ही रह गया ।।

assets.pinterest.com/images/pidgets/pinit_fg_en_rect_red_28.png"/>

#पड़स #क #बव #क #पलगतड़ #चदई #Padosi #biwi #palangtod #chudai

पड़ोसी की बीवी की पलंगतोड़ चुदाई | Padosi ki biwi ki palangtod chudai

Return back to Bhabhi ki chudai sex stories, Meri Chudai sex stories, Parivar Me Chudai, Popular Sex Stories, हिंदी सेक्स स्टोरी

Return back to Home

Leave a Reply