जन्नत का अहसास है गांड चुदाई-1

जन्नत का अहसास है गांड चुदाई-1

मेरे पति का लंड मेरे चूत में फचाफाच आ और जा रहा था, मुझे काफी मजा आ रहा था। शादी के 12 साल के बाद भी चुदाई का आनन्द कम नहीं हुआ था, यह तो बढ़ता ही जा रहा था। मेरे चूत ने पानी छोड़ दिया, मेरे चूत से पानी निकल कर मेरे गांड होते हुए बह रहा था लेकिन मेरे पति अभी भी कायम थे। दो मिनट के बाद उनके औज़ार ने भी पानी छोड़ दिया, वो पस्त हो कर मेरे उरोजों पर अपना सर रख कर सुस्ताने लगे।

Advertisement

मैंने उनके कूल्हों को सहलाते हुए कहा- राजा जी, ज़रा मेरी गांड की भी चुदाई कीजिये ना। कितने दिनों से गांड की चुदाई नहीं की है आपने!
मेरे पति हाँफते हुए बोले- नहीं जान, अब हिम्मत नहीं है, कल तेरी गांड की चुदाई जरूर करूँगा।
मैंने कहा- कल रात को भी आपने यही कहा था। तीन दिन से मेरे गांड में खुजली हो रही है, प्लीज़ कुछ कीजिये न!
मेरे पति मेरे चूत से अपना लंड निकालते हुए कहा- नहीं बेबी, कल जरूरी मीटिंग है, सो जाओ, सुबह जल्दी उठना है।

कह कर हमेशा की तरह मुँह फेर कर सो गए। और मेरी गांड की खुजली को मिटाने के लिए मुझे मोमबत्ती के सहारे छोड़ गए। मैंने बगल से मोमबत्ती उठाई और अपनी दोनों टांगों को ऊपर किया जिससे मेरी गांड का द्वार खुल गया। मैंने धीरे से मोमबत्ती को गांड में डाला और जहाँ तक हो सकता था अन्दर जाने दिया। लेकिन साथ ही साथ उस दिन की दोपहर वाली घटना याद करते हुए 10-12 मिनट तक गांड में मोमबत्ती डाल कर गांड की चुदाई की, तब जा कर गांड की खुजली थोड़ी कम हुई, तब जाकर थोड़ा मन को शांति मिली लेकिन दोपहर वाली घटना अभी भी मेरे दिमाग में घूम रही थी।

दरअसल मेरा नाम माधुरी है, मेरी उम्र 38 साल की है, मेरे पति का नाम दयाल सिंह है, वो 43 साल के हैं, वो सरकारी विभाग में कर्मचारी हैं, यूँ तो उनका पोस्ट छोटा ही है लेकिन ऊपरी कमाई काफी है, ऊपरी कमाई से ही दिल्ली के छोटे से घर को बड़े घर में बदल दिया। मेरे घर में और कोई नहीं है, मेरा मतलब अभी तक मुझे संतान नहीं हुई है।

मेरे सास-ससुर अपने गाँव में रहते हैं, यहाँ के मकान में सिर्फ मैं और मेरे पति रहते थे, मकान में कई कमरे हैं लेकिन रहने वाले सिर्फ हम दो, किसी सज्जन ने मेरे पति को सलाह दी कि क्यों नहीं अपने इस बड़े मकान में लड़कों को रहने के लिए किराए पर रूम दे देते हो, किराया भी अच्छा खासा मिल जाएगा।

मेरे पति को यह बात कुछ जंच गई। उन्होंने ज्यों ही इसके लिए हाँ कहा, अगले ही दिन मेरे घर के नीचे वाले फ्लोर पर दो लड़कों ने मिल कर दो कमरे ले लिए, दोनों ही डीयू में पढ़ाई करने आये थे, दोनों काफी शांत और पढ़ाई में मगन रहने वाले विद्यार्थी थे। एक का नाम राहुल तथा दूसरे का नाम शान था।

मेरे पति मुझे हर दो दिन पर चोदते हैं। यूँ तो मुझे उनकी चुदाई से कोई समस्या नहीं है, मुझे भी काफी मजा आता है लेकिन उनमें एक ही कमजोरी थी कि वो सिर्फ एक बार में एक ही बार चोद सकते हैं, एक बार चोदने के बाद उनकी शक्ति ख़त्म हो जाती है। यूँ तो मुझे भी एक बार चुदवा लेने पर संतुष्टि मिल जाती है लेकिन मेरा हमेशा मन करता है कि चुदाई अगर चूत और गांड की एक बार में ना हो तो मजा ही नहीं आता, इसकी आदत भी मेरे पति ने ही मुझे लगाई थी।

Hot Story >>  मेरे पड़ोसी की बीवी और साली-4

शादी के बाद वो मेरी चूत को चोदने के ठीक बाद गांड की चुदाई करते थे। शुरुआत में तो गांड चुदाई में काफी दर्द होता था लेकिन 1 महीने में ही गांड चुदाई में इतना मजा आने लगा कि पूछो मत! सचमुच जन्नत का अहसास है गांड चुदाई..

लेकिन इधर 2-3 वर्षों से मेरे पतिदेव का लंड मेरी चूत मारने में ही पस्त हो जाता है, अगर कभी गांड मारते हैं तो चूत की चुदाई नहीं कर पाते। अब मैं या तो गांड मरवा सकती थी या सिर्फ अपनी चूत चुदवा सकती थी इसलिए गांड की चुदाई के लिए मोमबत्ती का सहारा लेना पड़ता है।

उस दिन मेरे पति जब अपने ऑफिस गए हुए थे तो मैं किसी काम से नीचे वाली मंजिल पर गई, दोपहर के दो बज रहे थे, बाहर कड़ी धूप व गरमी थी। जब मैं वापस ऊपर जाने लगी तो देखा कि नीचे वाले कमरे का दरवाजा खुला हुआ था। मुझे लगा कि कहीं दोनों लड़कों अपने कमरे का दरवाजा खुला छोड़ कर कहीं चले तो नहीं गए। मैं उनके कमरे की तरफ गई, वहाँ जाकर देखा कि राहुल सिर्फ अंडरवियर पहने बैठा हुआ है।

ज्यों ही मैं वहाँ पहुँची, मैं उसे इस हालत में देख हड़बड़ा गई क्योंकि उसने भी मुझे देख लिया था।

उसने मुझे देखते ही कहा- क्या हुआ आंटी जी?

मैंने उसके अंडरवियर पर से नजर हटाते हुए पूछा- यह कमरे का दरवाजा खुला था तो मुझे लगा कि शायद तुम लोग गलती से इसे खुला छोड़ कर कहीं चले गए हो।

राहुल ने कहा- वो कमरे का दरवाजा इसलिए खुला रख छोड़ा है क्योंकि कमरे का दरवाजा खुला रहने से कमरे में हवा अच्छी आती है।
मैंने कहा- शान नहीं दिखाई दे रहा है?
राहुल ने कहा- वो ट्यूशन गया है।

मैंने फिर राहुल के अंडरवियर पर नजर डालते हुए पूछा- इस तरह क्यों पड़े हो? कम से कम पेंट पहन कर रहना चाहिए ना! कोई देखेगा तो क्या सोचेगा?
राहुल ने कुछ शर्माते हुए कहा- वो आंटीजी, बहुत गरमी है न इसलिए थोड़ी हवा ले रहा था। मुझे क्या पता कि कोई लेडी इस रूम में आ जायेगी?

मैंने जल्दीबाज़ी में उसके अंडरवियर पर एक गहरी नजर डाली और वापस मुड़ गई। मुझे उसके अंडरवियर के अन्दर उसके बड़े लंड का अंदाजा हो गया था।

जब मैं अपने कमरे पर आई तो मेरी नजर के सामने अभी राहुल का लंड घूम रहा था। रात को जब गांड में मोमबत्ती डाल कर गांड की चुदाई कर रही थी तो मुझे फिर से दोपहर वाली घटना याद आ गई और मुझे लगा कि अगर राहुल का लंड इस मोमबत्ती की जगह होता तो कितना मजा आता!

अगले दिन जब मेरे पति ऑफिस जा रहे थे तो बोले- आज मीटिंग है, हो सकता है कि रात के 9 बजे से पहले ना आ पाऊँ।

मैं भी अपने घरेलू काम में व्यस्त हो गई। दिन के एक बजे तक घर का सारा कामकाज निपटा कर आराम करने बेड पर चली गई। आज भी अच्छी खासी गरमी थी, मैंने अपने सारे कपड़े उतारे और नंगी ही बिस्तर पर लेट गई। एक हाथ मेरी चूची पर थी और एक हाथ से अपनी चूत के बाल को खींच रही थी।

अचानक मुझे गांड में खुजली महसूस होने लगी, मुझे राहुल के लंड के बारे में ख़याल आ गया, मुझे लगा कि यदि किसी तरह से राहुल के लंड से अपनी गांड मरवा लूँ तो मजा आ जाए। सोचते सोचते मुझे गर्मी चढ़ गई और बेड पर ही अपनी चूत में उंगली डाल कर मुठ मार ली लेकिन गांड की खुजली अभी समाप्त नहीं हुई थी।

Hot Story >>  माशूका की बड़ी बहन को चोदा-1

मैंने रिस्क लेने की ठान ली और सोचा पहले देखूंगी कि राहुल राजी होता है कि नहीं, सोच कर मैंने दो बजे कपड़े पहने और नीचे वाली मंजिल पर गई। मुझे पता था कि शान ट्यूशन पढ़ने गया होगा। नीचे का कमरे का दरवाज़ा बन्द था।

मैंने किवाड़ खटखटाए, अन्दर से राहुल निकला और प्रश्नवाचक निगाहों से मेरी तरफ देखने लगा।
मैंने कहा- राहुल, जरा ऊपर आ कर देखो ना, मेरा टीवी नहीं चल रहा है।

राहुल ने बिना कोई और सवाल किये मेरे साथ ऊपर आ गया। जैसे ही आया मैंने अपने घर का दरवाजा अच्छी तरह से बंद कर लिया। राहुल ने टीवी ऑन किया तो टीवी चलने लगा।
वो बोला- आंटीजी, टीवी तो चल रहा है।
मैं बोली- अरे हाँ, यह तो चलने लगा! लेकिन पता नहीं क्यों अभी थोड़ी देर पहले नहीं चल रहा था। खैर तुम थोड़ी देर यहीं बैठो और देखना कि यह फिर से बंद हो जाता है या नहीं!
राहुल ने झट से रिमोट हाथ में लिया और क्रिकेट लगा कर देखने लगा।

इधर मैं अपने पति को फोन लगाया और पूछा कि शाम में आते समय सब्जी लायेंगे कि नहीं।
पति ने जवाब दिया- आज शाम को नहीं आ पाऊँगा, कम से कम 9 बज़ ही जायेंगे।
सुन कर मैंने निश्चिंत होकर फोन रख दिया।

मैंने राहुल से कहा- तुम जाना नहीं, मैं तुम्हारे लिए कोल्ड ड्रिंक लाती हूँ।
मैंने दो कोल्ड ड्रिंक बनाए और उसके बगल में जाकर बैठ गई और कहा- कोल्ड ड्रिंक पियो!

उसने कोल्ड ड्रिंक उठाया और धीरे धीरे पीने लगा, मैं उसके लंड के बारे में सोच कर उत्तेजित हो गई और जोर की अंगडाई ली जिससे मेरे चूची बाहर की ओर निकल गई। राहुल ने एक नजर मेरी चूची की तरफ डाली फिर क्रिकेट देखने लगा।
मैंने सोचा कि शुरुआत कहाँ से करूँ?
मैंने कहा- राहुल, तुम्हारी उम्र कितनी है?
राहुल- 22 साल!
मैंने कहा- एकदम जवान हो, लेकिन मैं तो तुम्हें बच्चा समझ रही थी।

राहुल सिर्फ थोड़ा मुस्कुराया।
मैंने फिर कहा- अब तो तुम्हें शादी कर लेनी चाहिए।
राहुल बोला- बड़ा हो गया हूँ लेकिन शादी के लायक बड़ा नहीं हुआ हूँ आंटीजी।

मैंने कहा- क्यों? मैंने तो कल देखा था तुम्हारा? अच्छा खासा बड़ा लग रहा था।
राहुल ने मेरी तरफ आश्चर्य की भाव से देखा और कहा- क्या देखा था आपने?
मैंने कहा- वो जो तुम अंडरवियर में थे ना तो मैंने ऊपर से ही देख कर तुम्हारे लिंग का साइज़ का अंदाज़ लगा लिया था, अच्छा बड़ा है।

राहुल का चेहरा शर्म से लाल हो गया, वो जल्दी जल्दी कोल्ड ड्रिंक पीने लगा।
मैंने उसके हाथ थाम लिए और कहा- हड़बड़ाते क्यों हो? आराम से पियो ना!
वो बोला- आंटीजी, आप बहुत ही बोल्ड हैं।

मैंने कहा- राहुल, एक काम करो ना प्लीज, जरा मेरे बेड रूम में आओ ना, जरा मेरी हेल्प कर दो!
राहुल बोला- चलिए!

मैं उसे लेकर अपने बेडरूम में आ गई और दरवाजे को अच्छी तरह से बंद कर दिया, फिर उसे अपने साथ अपने बेड पर बिठाया और धीरे से उसके लंड पर हाथ रखा और कहा- मुझे एक जगह खुजली हो रही है और मुझे तुम्हारी जरूरत है। क्या तुम मेरी खुजली मिटा दोगे?
राहुल कोई बच्चा नहीं था, वो भी समझ गया था कि मैं क्या कहना चाहती हूँ।
फिर भी बोला- कहाँ खुजली हो रही है?

Hot Story >>  विधवा आंटी की हवस

मैंने उसकी आँखों में वासना की आग को देखा और झट अपनी साड़ी उतार दी, बिना समय लगाये अपना पेटीकोट भी उतार दिया, लगे हाथ अपना ब्लाउज भी खोल दिया। सिर्फ तीस सेकेंड में मैं उसके सामने ब्रा और पेंटी में थी। मैं उसका हाल देखना चाहती थी। वो एकटक मेरी चूची को देख रहा था। अब मैंने और देर नहीं की और अपनी ब्रा भी उतार दी, अब मेरी चूचियाँ बाहर आज़ाद थी।
मैंने उसका हाथ पकड़ा और अपनी चूची पर रख दी और कहा- इसे दबाओ ना!

वो मेरी चूची दबाने लगा, मुझे मजा आने लगा, मैंने एक हाथ उसकी पैंट पर रखा, अन्दर उसका लंड फनफना रहा था।
मैंने कहा- अपने कपड़े खोलो ना!
उसने अपनी शर्ट, पैंट और अंडरवियर उतार दी। उसका लंड 7 इंच से कम का नहीं था।

मैंने उसके लंड को हाथ में लिया और सहलाने लगी। उसने भी मेरे पेंटी में हाथ डाला और मेरी चूत को सहलाने लगा, फिर मेरी पेंटी को मेरी चूत से नीचे खिसका दिया। अब मेरी चूत वो साफ़ साफ़ देख सकता था, मेरी चूत देखते ही उसके लंड में तूफ़ान मचने लगा, उसने मुझे पलंग पर लिटा दिया और लगा मेरी चिकनी चूत को चूसने! आजकल के लड़के हाई स्कूल से ही सेक्स के बारे में इतना जानने लगते हैं कि उनके पापा लोग भी ना जान पायें।

उसने मेरी चूत में अपनी जीभ घुसा दी और मेरे चूत का नमकीन स्वाद लेने लगा। मेरी आँख बंद थी। कहाँ मैं 38 साल की और कहाँ मुझसे 16 साल छोटा सिर्फ 22 साल का वो था लेकिन ऐसा लग रहा था कि मानो वही 38 साल का हो और मैं 22 साल की कुंवारी लड़की!

थोड़ी देर में मेरे चूत में से पानी निकलने लगा, मैं सिसकारी भरने लगी, वो मेरी चूत के पानी को चाट रहा था। अब वो मेरे ऊपर आया और मेरी चूचियों को लालीपॉप की तरह चूसने लगा, उसका हर अंदाज़ निराला था।मुझे याद आ गया जब मेरे पति जवान थे तब शादी के बाद वो भी इसी प्रकार सेक्स करते थे। चूची चूसते चूसते वो और ऊपर चढ़ा और मेरे होंठों को अपने होंठों से चूसने लगा। उधर नीचे उसका फनफनाता हुआ लंड मेरी चूत से रगड़ खा रहा था।

मैंने अपनी दोनों टांगों को ऊपर करके आजु बाजू फैला कर अपनी चूत का मुँह खोलते हुए राहुल को निमंत्रण देते हुए कहा- राहुल, देर ना करो, और मेरी चूत में अपना लंड डालो।

राहुल ने अपने लंड को पकड़ा और मेरी चूत में घुसाने की कोशिश करने लगा लेकिन बच्चू यहीं मात खा गया। उसे पता ही नहीं चल रहा था कि असली छेद किधर है।

मैंने उसकी परेशानी को समझा और उसके लंड को पकड़ कर अपनी चूत की सही छेद के मुँह पर रख दिया। उसने सड़ाक से अपने लंड को मेरे चूत में घुसेड़ दिया। मेरा चूत तो टाईट नहीं थी लेकिन उसके मोटे लंड की वजह से कसी लग रही थी। उसने पूरा लंड मेरी चूत में अन्दर तक डाल दिया। पहले तो वो रुक कर अपने लंड से मेरे चूत के अन्दर का अहसास लेने लगा, फिर दो मिनट तक रुकने के बाद उसने चुदाई प्रारम्भ की।

उफ्फफ्फ्फ़!
कहानी जारी रहेगी!

कहानी का अगला भाग : जन्नत का अहसास है गांड चुदाई-2

#जननत #क #अहसस #ह #गड #चदई1

Leave a Comment

Open chat
Secret Call Boy service
Call boy friendship ❤
Hello
Here we provide Secret Call Boys Service & Friendship Service ❤
Only For Females & ©couples 😍
Feel free to contact us🔥
Do Whatsapp Now