पूरा ९ इंच का लंड उसकी चुत में गुसा दिया वो बस ऊऊह्ह्ह आआह्ह करती रही

पूरा ९ इंच का लंड उसकी चुत में गुसा दिया वो बस ऊऊह्ह्ह आआह्ह करती रही

मेरा नाम कमल है और में असम का रहने वाला हूँ, मेरी उम्र 27 साल है।अब में सबसे पहले अपने बारे में भी बता देता हूँ, में दिखने में एकदम ठीकठाक और मेरा रंग गोरा है और मेरे लंड का साईज़ 6 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है। दोस्तों मेरी यह कहानी कुछ इस तरह की है, मुझे एक भाभी रास्ते में मिली। एक दिन ऐसे ही में फुटपाथ से घूमता हुआ कहीं जा रहा था तो रास्ते में थोड़ी देर बाद मुझे एक बहुत सुंदर भाभी जी मिली तो मैंने देखा कि उसका पूरा ध्यान मेरी ही तरफ था, वो मुझे देखकर थोड़ा सा मुस्कुरा रही थी और में भी उन्हें देखकर बहुत खुश था और अब मैंने भी अपना पूरा ध्यान उसकी तरफ लगा दिया। फिर में उसका पीछा करने लगा और वो जहाँ जाती में भी वहां पर उनके पीछे पीछे जाने लगा, कम से कम आधा घंटा उसके साथ ऐसे ही टाईम चला गया। फिर जाकर थोड़ा साहस करने के बाद मैंने उसके साथ थोड़ी बातें करना शुरू किया और उससे उसका नाम और उसकी तारीफ करने लगा।

फिर उसके बाद उसने मुझसे मुस्कुराते हुए बोला कि चलो हम कहीं बैठते है और फिर हम थोड़ी ही दूरी पर एक कॉफी शॉप में जाकर बैठ गए और अब हम दोनों एक साथ बैठकर कॉफी पीने लगे। हम दोनों कुछ घंटो में एक दूसरे के साथ ऐसे बातें करने लगे जैसे हम एक दूसरे को बहुत लंबे समय से जानते है, हम बहुत हंस हंसकर बातें करने लगे थे और वो भी मेरी हर बात का जवाब बहुत अच्छे से देने लगी थी। तभी हम लोगों ने अपना अपना फोन नंबर एक दूसरे को दे दिया। फिर उस दिन की कहानी उसी कॉफी शॉप पर हो गई और जाते जाते में उससे बोल गया कि में उसके फोन का इतंजार करूंगा और में उससे इतना कहकर वहां से चला गया, लेकिन मेरे मन में वो पूरी तरह से बस गई थी और में पूरे रास्ते उसके बारे में सोचता रहा। माफ़ करना दोस्तों में तो आप सभी को उसके बारे में बताना ही भूल गया। उसका नाम परी है और उसकी उम्र करीब 35 साल के करीब ही होगी, वो दिखने में एकदम अच्छी, उसका कलर दूध जैसा गौरा है, लेकिन उसकी लम्बाई ज्यादा नहीं है और उसका फिगर बहुत मस्त है, उसका फिगर का साईज मेरे हिसाब से 36- 32- 38 होगा। उसके होंठ आकार में बड़े और बिल्कुल लाल लाल थे और जिसको देखते ही मेरा उसे किस करने का मन करता है। उसको देखकर बिल्कुल भी नहीं लगता कि वो शादीशुदा है और अब ज्यादा वक़्त बर्बाद किए बिना में सीधा अपनी आज की कहानी पर आता हूँ। फिर दूसरे दिन सुबह शायद करीब 10 बजे का समय था, तभी मेरे पास उसका फोन आ गया और उसने मुझसे पूछा कि तुम इस समय कहाँ हो? तो मैंने उससे बोला कि में अपने कमरे पर हूँ। फिर उसने मुझसे पूछा कि में फ्री हूँ क्या? तो मैंने बोला कि हाँ में फ्री हूँ तो उसने मुझे उसके साथ कहीं बाहर बाजार से कुछ खरीदने के लिए जाने को बोला। फिर मैंने तुरंत कुछ सोचे बिना झट से उसे हाँ बोल दिया और अब में जल्दी से तैयार होकर उसके बताए हुए पते पर पहुंच गया। फिर हम दोनों वहां से बाजार के लिए निकल पड़े और उसने वहां पर पहुंचकर जी भरकर खरीदारी की। उसने उस समय एक कुर्ती और लेगी पहन रखा था और जिसमें वो बहुत मस्त लग रही थी और उसके बूब्स को देखने पर मेरी ऐसी इच्छा हो रही थी कि में उसके बूब्स को यहीं के यहीं पकड़कर खा जाऊँ और अच्छी तरह से निचोड़ दूँ और उनका पूरा रस पी जाऊँ। फिर मैंने जानबूझ कर उसके बूब्स पर अपना हाथ लगाना शुरू कर दिया था, लेकिन उसने मुझसे कुछ भी नहीं बोला और मुझे मालूम नहीं था कि उसको इस बात का पता लगा है या नहीं? फिर कुछ देर बाद में फिर से मैंने अपना हाथ उसकी सेक्सी छाती पर लगाना शुरू किया और तब उसको मेरा हाथ अपने बूब्स पर महसूस हुआ और उसने यह सब जानकर भी ना जानने का नाटक किया। तब मुझे और जोश आ गया और ऐसे ही करते करते मैंने एक बार ज़ोर से हाथ लगा दिया, ताकि उसके बूब्स दब जाए और अब ऐसा ही हुआ। मैंने उसके मुलायम बूब्स को बहुत करीब से छूकर हाथ लगाकर महसूस किया, लेकिन उसने मुझसे कुछ भी नहीं कहा बस थोड़ा सा मुस्कुरा दिया और में उसकी इस हंसी का मतलब समझ चुका था।

Hot Story >>  My First Lesbian Experience With My Neighbor

फिर हम दोनों करीब तीन घंटे बाद लौटकर आ गए और अपने अपने घर पर चले गये और घर जाने के बाद उसने मुझे फोन किया तो वो मुझसे थोड़ा ठीक से खुलकर बातें करने लगी और मुझसे ऐसे ही हालचाल पूछते पूछते मैंने बातों ही बातों में कुछ सेक्स की तरफ इशारा कर दिया, उसको भी अब पता लग रहा था कि में उससे किस बात का इशारा कर रहा हूँ और तभी शायद उसको भी जोश आ गया और अब उसने भी मेरे साथ सेक्सी बातें करनी शुरू कर दी। फिर हम दोनों ने फोन पर ही बहुत सारी बातें की और फिर हम लोगों ने फोन सेक्स भी किया। फिर मैंने एक बार मुठ मारी और उसने भी अपनी चूत में ऊँगली डालना शुरू किया और कुछ देर बाद हम दोनों झड़ गये। फिर हमने फोन कट करके अपने अपने सामान बाथरूम में जाकर साफ कर लिए और फिर कुछ देर बाद उसका मेरे पास दोबारा फोन आ गया और अब हम लोगों ने मिलने का प्लान बनाया, मेरा विचार उसके घर पर जाने का था और अब हम दोनों एक अच्छे से मौके का इंतजार कर रहे थे और पूरे चार दिन बाद वो मौका आ गया।

दोस्तों उस दिन उसके घर पर कोई भी नहीं था और उसने अपनी तबियत खराब होने का बहाना बनाकर अपने परिवार वालों के साथ जाने से साफ मना कर दिया और इस बात का फायदा उठाकर उसने तुरंत अकेले होते ही मुझे फोन कर दिया। फिर में उस दिन उसके घर पर जाने को तैयार हो गया और तब तक हम लोग हर दिन बाहर मिलते रहे और मौका मिलने पर हम फोन सेक्स भी करते थे। दोस्तों अब आई मौके की बात तो जब में उसके घर पर पहुंचा तो उसने दरवाजा खोला और तुरंत वो मुझसे लिपट गई और उसने मुझे ज़ोर से हग कर लिया और मेरे एक होंठ पर स्मूच किया। दोस्तों वाह क्या स्मूच था? में आसमान पर पहुंच गया था क्या मज़ा था? उसने उस समय मेक्सी पहनी हुई थी और उसके नीचे ब्रा नहीं पहन रखी थी, शायद मेरे आने के इंतजार में वो एकदम तैयार थी, उसने काली कलर की पेंटी पहन रखी थी। फिर उसने मुझे किस करने के कुछ देर बाद मुझसे पूछा कि क्या तुम चाय पियोगे? तो मैंने उससे बोला कि मुझे चाय नहीं चाहिए मुझे तो आपका दूध चाहिए। अब वो मुझसे एक बार फिर से लिपट गई और अब हम दोनों उसके बेडरूम में चले गये, बेडरूम में जाते ही मैंने उसको बेड पर लेटा दिया और में उसके सामने आ गया। अब में उसको ज़ोर ज़ोर से किस करने लगा और वो भी मेरा पूरा पूरा साथ देने लगी। उसने अपनी जीभ को मेरे मुहं के अंदर डालकर वो मेरे सलाइवा को चाट रही थी और में भी उसका पूरा पूरा साथ देता रहा, ऐसे ही हम दोनों अब बहुत गरम हो गए। फिर मैंने उसे किस करते करते उसके बूब्स को कपड़ो के ऊपर से पकड़ लिया और ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा था। फिर वो सिसकियाँ लेते हुए मुझसे बोली कि उह्ह्ह्ह आह्ह्ह्ह प्लीज थोड़ा धीरे करो, इतना ज़ोर ज़ोर से कर रहे हो क्या मेरे बूब्स को बाहर ही निकाल दोगे क्या? तब मैंने थोड़ा धीरे किया और उसके कपड़े उतारने लगा, कपड़े निकालकर में उसके पूरे शरीर को ऊपर से लेकर नीचे तक किस करने लगा और उसके जिस्म का एक भी ऐसा हिस्सा नहीं रह गया जहाँ पर किस करना बाकी रह गया हो। अब मैंने उसकी चूत पर एक जोरदार किस किया और अब में उसकी चूत और बूब्स से खेलने लगा, में उसके एक बूब्स को दबा रहा था और एक को चूस रहा था और चूस चूसकर मैंने उनके निप्पल को पूरे लाल कर दिए थे और ज्यादा ज़ोर से दबाने की वजह से उसके गोरे गोरे मोटे बूब्स भी अब लाल हो गए थे और वो मोन कर रही थी, आऔह उूुउऊ अयाया आआहाआह करके चिल्ला रही थी।

Hot Story >>  Mere Dost Ki Mom, Shilpa

फिर मैंने उठकर अपने मोबाइल पर एक अच्छा सा प्यार भरा गाना चला दिया, जिससे उसके चीखने की आवाज बाहर ना जाए और फिर में उसके पास आकर उसकी चूत को चाटने लगा और उसकी चूत में मैंने अपनी एक ऊँगली को डाल दिया और मैंने देखा कि उसने अपनी चूत को बहुत साफ कर रखा था और उस पर एक भी बाल नहीं था, मेरे करीब पांच मिनट तक चूत को चाटने के बाद वो अब झड़ने वाली थी। तभी उसने मुझसे बोला कि मेरा अब निकल रहा है और मैंने उसका रस पी लिया, वाह क्या स्वाद था उसका, मुझे बहुत अच्छा लगा। अब वो मेरे ऊपर आ गई और वो मेरे कपड़े खोलने लगी और वो एक एक करके ऐसे खोल रही थी कि जैसे वो आज मेरे कपड़े फाड़ देगी। फिर उसने मुझे जी भरकर किस किया और मेरे लंड से खेलने लगी और उसको हाथ में ले लिया और सहलाने लगी। फिर मैंने उससे बोला कि तुम इसे अपने मुहं में नहीं लोगी क्या? तब उसने मेरी यह बात सुनकर झट से लंड को अपने मुहं में ले लिया और फिर वो बहुत मज़े से लंड को चूसने लगी। दोस्तों वाह क्या मज़े से चूस रही थी, में तो एकदम मदहोश होने लगा था और मुझे ऐसा लग रहा था कि में आज आसमान में हूँ और मुझे ऐसा महसूस कभी नहीं हुआ था। फिर उसने पांच मिनट लंड को चूसने के बाद मुझसे बोला कि मुझे अभी के अभी वो चाहिए, में अब और ज्यादा देर बर्दाश्त नहीं कर सकती प्लीज मुझे तुम्हारा यह मेरे अंदर डालकर धक्के दो और मुझे संतुष्ट कर दो में बहुत समय से इसके लिए तरस रही हूँ प्लीज थोड़ा जल्दी करो। फिर मैंने तुरंत उसे अपने ऊपर से हटाकर बिस्तर पर एकदम सीधा लेटा दिया और उसके दोनों पैरों को फेलाकर सुला दिया था। अब मैंने एक ही जोरदार झटके में अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया और वो ज़ोर से चिल्लाने लगी उईईईई माँ में मर जाउंगी उफ्फ्फफ्फ्फ़ में मर गई और उसने मुझसे अपने लंड को बाहर निकालने के लिए बोला। तो मैंने उसकी हालात देखकर एक बार थोड़ा बाहर निकाल दिया और अब में धीरे धीरे झटका लगाने लगा। ऐसी ही कुछ देर धीरे धीरे करने के बाद एक झटके में मैंने अपना पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया उसके मुहं की बनावट को देखकर मुझे लग रह था कि उसको अब बहुत दर्द हो रहा था, लेकिन फिर भी उसने कुछ नहीं बोला और मेरा साथ दे रही थी वो ज़ोर ज़ोर से मोन कर रही थी हाँ उफ्फ्फ्फ़ बेबी और ज़ोर करो बोलकर चिल्ला रही थी, हाँ चोदो मुझे ज़ोर से बोलकर चिल्ला रही थी उूआह आआयाया उह्ह्हह्ह माँ मर गयी में उफ्फ्फ्फ़ मर ऊईई और जोर से मारो। तब मैंने स्पीड को और भी बड़ा दिया था और वो तब मेरा साथ देने लगी थी और तभी उसने बोला कि उूईईईइ आह्ह्ह्ह।

Hot Story >>  मस्त देसी भाभी की चुदास-1

अब में भी झड़ने वाला था और तभी वो भी झड़ गई थी। तब ऐसे ही करीब 10 या 12 मिनट करने के बाद में झड़ने वाला था। फिर तभी मैंने उससे कहा कि में अब झड़ने वाला हूँ तो उसने बोला कि उसे मेरा पीना पानी है। तो मैंने अपना लंड चूत से बाहर निकालकर उसके हाथ में थमा दिया उसने झट से उसे अपने मुहं में ले लिया और लोलीपोप की तरह चूसने लगी और तब तक में झड़ गया था और मेरा पूरा का पूरा वीर्य उसने पी लिया। उसने अब मेरा लंड चाट चाटकर पूरा साफ कर दिया और अब मैंने उसे एक ज़ोर से किस किया और हम एक साथ ही लेटे रहे और में उसके बूब्स को पकड़कर ही लेटा रहा। फिर आधे घंटे बाद हम लोगों ने फिर से एक बार और चुदाई की। उस दिन हम दोनों ने दो बार सेक्स किया और उसके बाद हम लोगो को जब भी मौका मिलता था तभी हम लोग चुदाई करते थे। मैंने उसको चोदकर बहुत अच्छी तरह से संतुष्ट किया और वो मेरी चुदाई और चुदाई करने के तरीके से बहुत खुश थी। तभी तो उसने मुझे उसकी चुदाई के बहुत सारे मौके दिए और मैंने उन सभी मौकों का पूरा पूरा फायदा उठाया। दोस्तों यह थी मेरी चुदाई की कहानी एक अनजान भाभी के साथ ।।

#पर #९ #इच #क #लड #उसक #चत #म #गस #दय #व #बस #ऊऊहहह #आआहह #करत #रह

पूरा ९ इंच का लंड उसकी चुत में गुसा दिया वो बस ऊऊह्ह्ह आआह्ह करती रही

Leave a Comment

Open chat
Secret Call Boy service
Call boy friendship ❤
Hello
Here we provide Secret Call Boys Service & Friendship Service ❤
Only For Females & ©couples 😍
Feel free to contact us🔥
Do Whatsapp Now