Notice: Undefined index: id in /home/indiand2/public_html/wp-content/plugins/seo-by-rank-math/includes/opengraph/class-image.php on line 119

Notice: Undefined index: id in /home/indiand2/public_html/wp-content/plugins/seo-by-rank-math/includes/opengraph/class-twitter.php on line 194

माँ की चुदाई कारपेंटर से

ass="img-fluid wp-post-image" alt="" loAding="lazy" srcset="https://sexkahani.net/wp-content/uploads/2019/06/pexels-photo-597200.jpeg 2299w, https://sexkahani.net/wp-content/uploads/2019/06/pexels-photo-597200-300x196.jpeg 300w, https://sexkahani.net/wp-content/uploads/2019/06/pexels-photo-597200-768x501.jpeg 768w, https://sexkahani.net/wp-content/uploads/2019/06/pexels-photo-597200-1024x668.jpeg 1024w" sizes="(max-width: 2299px) 100vw, 2299px"/>

हैल्लो दोस्तों, मेरी ये पहली कहानी है। सबसे आप सभी पाठकों को नमस्कार। मेरा नाम शिवा है और अभी में 21 साल का हुआ हूँ, मेरा लंड 8 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है। में दिन में 2 बार मुठ मारता हूँ। ये कहानी मेरी माँ की चुदाई की है जिसका नाम रूबी है। यह कहानी जब की है जब में 12वीं क्लास में था और उस वक्त में 19 साल का था। मेरी माँ का फिगर 40-36-44 है, इस स्टोरी के समय वो 41 साल की थी। मेरी माँ को देखकर किसी का भी लंड खड़ा हो जाएगा, मेरी माँ बहुत ही अच्छी औरत है और वो कभी भी किसी से ग़लत सम्बंध नहीं बना सकती है, ये मेरा भरोसा था। मेरे पापा दलाल (ब्रोकर) है इसलिए वो ज्यादातर बाहर जाते रहते है।

एक बार की बात है जब मेरे पापा काम के सिलसिले से अपने 2 दोस्तों के साथ 30 दिनों के लिए ग्वालियर जा रहे थे, तो मेरे पापा ने मुझसे कहा कि तुम भी चलो, तो में मान गया और उसी दिन सुबह 6 बजे हमारे घर पर किचन बनाने वाले कारीगर आ गये। मेरे पापा ने उनसे 8 बजे आने को कहा, क्योंकि अभी हम दोनों को ग्वालियर जाना था। फिर पापा ने मम्मी को किचन का पूरा डिजाईन समझा दिया और में और पापा उनके दोस्त के घर 2-4 किलोमीटर दूर अपने घर से चले गए, लेकिन फिर वहाँ पर मेरा जाना केन्सिल हो गया, तो में ये सुनकर बहुत दुखी हुआ और अपने घर के लिए निकल पड़ा। मैंने सोचा कि अगर में घर जाऊंगा तो मम्मी मुझे स्कूल भेज देगी इसलिए में अपने दोस्त के घर चला गया। हम दोनों के घर आपस में चिपके हुये थे।

फिर मैंने उससे कहा तो उसने मुझे अपनी छत पर जाकर छुपने के लिए कहा, क्योंकि उसको स्कूल जाना था। हम दोनों की छत आपस में चिपकी हुई थी और बीच में 1 फुट की दिवार थी। फिर में 15 मिनट तक बैठा रहा और फिर मैंने देखा कि मेरे घर की बेल बजी, तो मैंने देखा जब लकड़ी वाले आए थे। फिर मैंने देखा कि मम्मी उस समय गाउन पहने थी और एक बात मम्मी सोते समय कभी पेंटी नहीं पहनती तो मम्मी उस समय बिना पेंटी के थी। फिर मैंने देखा कि मम्मी उन दोनों कारपेंटर को आँगन में लाई और अब मेरा मन किचन का नक्शा देखने का था, तो में ऊपर से ही सब देख रहा था। फिर मैंने देखा कि वो लोग नीचे आँगन में बैठे थे और मम्मी को होश नहीं था कि उनकी चूत भी दिख रही है, अब मम्मी उन्हें नक्शा समझाए जा रही थी।

फिर 20 मिनट तक समझाने के बाद उसने मम्मी से पानी माँगा और जब मम्मी पानी लेने गई तो वो दोनों धीरे धीरे कुछ बात कर रहे थे। फिर इतने में एक आदमी एक डिब्बा लेकर टायलेट में चला गया और 20 मिनट के बाद वापस आया। जब मम्मी एक आदमी के साथ बैठे हुए थी, तो एक आदमी ने उस डब्बे में से चुपके से 3 कोकरोच मम्मी के गाउन पर डाल दिए। फिर एक आदमी जोर से चिल्लाया कोकरोच आपके गाउन से आपकी चूत में जा रहे है। फिर मम्मी ने देखा कि उनकी चूत पर कोई काट रहा है तो मम्मी झट से उठी और इतनी देर में मम्मी जोर से चीखी बचाओं में मर जाउंगी। फिर उन लोगों ने मम्मी का गाउन उतार दिया और अब मम्मी उनके सामने सिर्फ़ ब्रा में थी। अब मम्मी सिर्फ़ ब्रा में उनके सामने थी और मम्मी ने उनसे उसका गाउन माँगा।

#म #क #चदई #करपटर #स

माँ की चुदाई कारपेंटर से

Return back to Adult sex stories, hindi Sex Stories, Indian sex stories, Popular Sex Stories, Top Collection, रिश्तों में चुदाई, हिंदी सेक्स स्टोरी

Return back to Home

Leave a Reply