माँ-बहन की चुदाई अपने ही मुस्लिम दोस्त और उसके अब्बू से Part 3

Lated_posts">


अब मैं जो लिखने जा रहा हु वो उस ऑडियो रिकॉर्डिंग में थी। –

प्रिया दीदी- अस्सलाम-वालेकुम फरहान जी।
फरहान- वालेकुम-अस्सलाम। तू तो अपने दोस्त दीपक की बहन है न !
(मैं प्रिया दीदी की आवाज़ पहचान गया था की ये सच में मेरी प्रिया दीदी ही है)

प्रिया दीदी- जी हाँ। मुझे स्वेता मैडम ने सब बता दिया है। मैं सब करने के लिए तैयार हूँ पर एग्जाम में आप मेरे नंबर बढ़ावा देंगे न।
फरहान- हाँ। तू उसकी चिंता न कर। पूछ ले जितनी लड़कियों को चोदा है वो सब फर्स्ट क्लास पास हुयी है। तू उसकी टेंशन मत ले। तू बस ये सोच की हमें कैसे-कैसे मज़े देगी।

प्रिया दीदी- मुझे बस एक बात का और डर है।

फरहान- किस बात का डर है ? बोल।

प्रिया दीदी – जी इस बात का दीपक को पता न चले तो अच्छा रहेगा।

फरहान- ऐसा नहीं हो सकता। उसे इस बारे में पता तो चल ही जायेगा। अगर मैं नहीं बताऊंगा तो कोई और उसे इस बारे में बताएगा। उसे भी पता चलने दे। पता चल भी गया तो क्या करेगा ? वो अपनी बहन के बारे में किसी से कुछ नहीं बोलेगा।

प्रिया दीदी- अगर दीपक ने घर में बता दिया तो मेरा कॉलेज आना बंद हो जायेगा।

फरहान- बहन की लौड़ी तू दीपक की चिंता मत कर मैं उसे समझा दूंगा। एक रण्डी के चक्कर में मैं अपने दोस्तों के साथ गद्दारी नहीं करूँगा साली छिनार। चुदवाना है तो चुदवा नहीं तो जा कर पढाई कर। शायद पास हो जाये।

प्रिया दीदी कुछ सोच कर बोली- ठीक है। आप दीपक को समझा देना और मैं आपके साथ और आपके सभी दोस्तों के साथ बस कुछ करने के लिए तैयार हूँ।

फरहान- ऐसे नहीं बहन की लौड़ी। बोल की मैं आपकी और आपके दोस्तों की पालतू कुतिया और सड़क छाप रंडी बनने को तैयार हूँ। आप लोग जहाँ बोलेंगे, जैसा बोलेंगे वहां अपनी चूत मरवाऊंगी।

स्वेता और प्रिया दीदी के हसने की आवाज़ आती है और फिर प्रिया दीदी बोलती है- ठीक है फरहान जी। मैं आपकी और आपके सभी दोस्तों की पालतू कुतिया और सड़क छाप रंडी बनने के लिए तैयार हूँ। आप लोग जहाँ बोलेंगे, जैसा बोलेंगे वहां अपनी चूत मरवाऊंगी।

फिर से स्वेता और प्रिया दीदी के हसने की आवाज़ आती है और स्वेता प्रिया दीदी से बोलती है- तू तो एकदम से आगे ही भाग रही है। लगता है की तुझे काम से नहीं अपनी चूत की आग से ज्यादा मतलब है।

प्रिया दीदी- जब रंडी बनने की सोच लिया है तो अब शर्म कैसे। जितना ओपन रहूंगी उतना अच्छा रहेगा, और मेरा काम तो अब फरहान जी करा ही देंगे।

फरहान- तू तो एकदम परफेक्ट रंडी लग रही है। वैसे तुझे बता दूँ की तुझे लकी और छोटू से भी चुदवाना पड़ेगा।

प्रिया दीदी- कौन लकी और छोटू ? वो कैंटीन वाले ?
फरहान- हाँ कैंटीन वाले। बहन की लौड़ी कोई प्रॉब्लम है क्या ?

प्रिया दीदी- नहीं। कोई प्रॉब्लम नहीं फरहान जी। जब रंडी बनने जा रही हूँ तो कैसी शर्म। अब छोटू क्या, क्या सब्ब्जी वाला, क्या होटल वाला, मैं तो अब जमादार और भिखारियों के लिए भी तैयार हूँ। लकी और छोटू तो आप लोगों के साथ के है, पर छोटू का खड़ा भी होता है ?

स्वेता बोली- तू तो एकदम रंडी हो गयी है अभी से।

फरहान- अच्छा है अभी से रंडी बन जाये। इसके लिए भी अच्छा है और हमारे लिए भी। साली छिनार तू छोटू की चिंता न कर। उसका लौड़ा इतना बड़ा है की तेरी चूत के लिए वो अकेला ही काफी है।

प्रिया दीदी और स्वेता की हलकी सी हसने की आवाज़ आती है।

फरहान- समझी नयी नवेली छिनार। रंडी किसी की उम्र और लौड़े के बारे में नहीं पूछती। जिसका लौड़ा खड़ा होता है वही रंडी की बुर मारने आता है।

फरहान ऑडियो बीच में रोकता है और बोलता है की ये बात उसने प्रिया दीदी की चूची को मसल कर बोली थी।

छोटू बोलता है- भाई आपने बड़ी अच्छी और सही बात बोली।

पंकज बोला- यार ऑडियो बीच में न रोक। बाद में बता देना। अभी क्यों मज़ा किरकिरा कर रहा है। मेरा तो अभी से लौड़ा खड़ा हो गया है उस छिनार की बुर मारने के लिए।

फरहान बोला- यार साले साहब को भी तो पता चलना चाहिए की क्या हो रहा था। क्यों साले साहब ?
मैं भी थोड़ा उत्तेजित हो गया था और मुझे मालूम था की मैं अब कुछ नहीं कर सकता इसलिए मैं भी बोला- हाँ सही है जीजा जी आप सब कुछ बताते रहो। मैंने पहली बार किसी को जीजा बोल था।

सब लोगो ने हूटिंग की और बोले ये हुयी न बात।

फरहान ने फिर से ऑडियो रिकॉर्डिंग शुरू की-
प्रिया दीदी- सॉरी फरहान जी। गलती हो गयी। अब कभी ऐसा नहीं पूछुँगी। वैसे आप से एक विनती है। आप मेरी एक बात और मान लीजिए।

फरहान- हाँ बोल। मैं उनमे से नहीं हूँ जो अपनी रखैल की बात नहीं सुनते।
प्रिया दीदी- मुझे मालूम है की आप लोग 3-4 लड़के मिल कर एक लड़की को चोदते है। मुझे इसमें कोई प्रॉब्लम नहीं है, पर मैं चाहती हूँ की जब मेरी पहली बार सील टूटे तो सिर्फ आप अकेले ही मुझे चोदे और जब तक मैं पूरी तरह से ठीक न हो जाऊ तब तक कोई दूसरा लड़का मुझे सेक्स के लिए न बोले। सेक्स के अलावा आप लोग जो बोलेंगे मैं वो करुँगी और दूसरी बात की अगले हफ्ते से मेरे पीरियड्स शुरू होने वाले है इसलिए मुझे थोड़ा दर्द रहेगा और नार्मल होने में थोड़ा टाइम लगेगा। इसलिए तब तक कोई मुझसे सेक्स के लिए न बोले। मेरी ये दो बाते मान लीजिए।  फरहान- चल ठीक है रांड। मैं तेरी ये दोनों बाते मान लेता हूँ। आखिर तू मेरे दोस्त की बहन है पर मेरी भी एक शर्त है की तुझसे जो भी करने को बोला जायेगा तू वो करेगी और कभी मना नहीं करेगी। अगर कोई तुझसे बस में या बीच सड़क पर अपना लौड़ा चूसने को बोलेगा तो तू चूसेगी। अगर तेरा कोई व्रत या उपवास चल रहा होगा फिर भी कोई तुझसे अपना मूत या थूक पीने को बोलता है तो मना नहीं करेगी। अगर कोई तुझसे नंगी हो कर पूजा करने को बोलेगा तो तू वो भी करेगी। कभी किसी काम के लिए मना नहीं करेगी। एक बात और की तू पंडित है और हम लोग मुसलमान, चमार, जमादार, तुझे बहुत बेज्जत करेंगे। अगर तुझे ये सब मंजूर है तो मुझे भी तेरी बाते मंजूर है।

प्रिया दीदी- मुझे मालूम है। स्वेता मैडम ने मुझे ये सब बता दिया है। मुझे आपकी सारी बाते मंजूर है।

फरहान- तो तू अब पूरी रंडी बनने के लिए तैयार है ?

प्रिया दीदी- जी हाँ। तभी तो स्वेता मैडम को आपके पास भेजा था।

फरहान- तो जब रंडी बनने जा रही है तो रंडियों की तरह कपडे पहना कर बुरचोदी।

प्रिया दीदी- वो क्या कुछ अलग कपडे पहनती है ?

फरहान- मेरे कहने का मतलब है की जैसे जीन्स-टॉप, स्कर्ट-शर्ट कुछ मॉडर्न कपडे पहना कर।

प्रिया दीदी- ये सब कपडे बहुत महंगे आते है और मेरे पास इतने पैसे नहीं है जो ऐसे कपडे खरीद सकूँ।

फरहान- चल तू चुदवाना शुरू कर। पैसे तो तुझसे हम कमवा लगे रंडी बना के। वैसे सलवार-सूट पहनती है तो थोड़ा हॉट पहना कर, इसमें कुछ दिखता ही नहीं, न तेरी चूची, न तेरी पीठ और न ही तेरी गांड का उभार और ऊपर से तू दुपट्टा डाल लेती है और इतने में प्रिया दीदी की आवाज़ आती है- आई फट जायेगा। पिन लगी है फरहान जी। स्वेता और प्रिया दीदी के हसने की आवाज़ आती है।

फरहान यहाँ पर रिकॉडिंग रोक कर बताता है की की मैंने प्रिया का दुपट्टा खींचा था। कुतिया ने दुपट्टे में सेफ्टी पिन लगायी थी।

फरहान फिर ऑडियो शुरू करता है –
प्रिया दीदी- जी हटा रही हूँ। खिंचीये नहीं, फट जायेगा।

फरहान- अब तू ये पिन-विन न लगाना। कॉलेज के लौंडो को कुछ तो दिखने दे बुरचोदी। वैसे भी अब तू रंडी है।

फरहान, स्वेता और प्रिया दीदी के हंसने की आवाज़ आती है और यहाँ भी सब हसने लगते है। मैं भी उन सबके साथ थोड़ा मुस्कुरा देता हूँ।

प्रिया दीदी- ये लीजिए हटा दिया। जो देखना है देख लीजिए।
फरहान- साली तेरी चूची बहुत छोटी है। क्या साइज है इनका ? कभी किसी ने दबाया नहीं क्या ? तू भी नहीं दबती क्या ?

यहाँ पर फरहान हम सब को बताता है की- मैंने कुतिया की चूची मसली थी। छोटी चूची है पर एकदम कड़क और मस्त है।

फरहान फिर रिकॉर्डिंग आगे सुनाता है-
प्रिया दीदी- नहीं आज तक किसी ने नहीं दबाई। मैं भी इनको नहीं दबाती।

फरहान- क्यों माँ की लौड़ी ? साइज क्या है इनका ?

प्रिया दीदी- जी मम्मी मना करती है और साइज 30 की है।

फरहान- साली तू 20 की हो गयी है और चूची अभी केवल 30 की है। तेरी मम्मी क्यों मना करती है और क्या-क्या मना करती है ?

प्रिया दीदी- जी मम्मी बोलती है की चूची दबाने से निप्पल फ़ैल जाते है और इनका शेप ख़राब हो जाता है। ये ढीली हो जाती है और लटकने लगती है। मम्मी ने नीचे उंगली करने से भी मना किया है। बोलती है की इन्फेक्शन हो जाता है और साथ में चेहरे पर दाने निकल आते है।

फरहान- बहुत अच्छा सिखाया है तेरी माँ ने। हमारे लिए एकदम परफेक्ट रंडी तैयार की है। अब ऊपर क्लास में चल, तेरी नंगी वीडियो बनाऊंगा, कहीं तू फुर्र न हो जाये।

प्रिया दीदी हसने लगती है और बोलती है- चलिए आपको जैसी वीडियो बनानी है बना लीजिए। वैसे अब मैं फुर्र नहीं होने वाली।
स्वेता और प्रिया दीदी दोनों के हसने की आवाज़ आती है।

फरहान- स्वेता अब तू जा। मैं इस छिनार का फीगर और इसका नंगा जिस्म देख कर आता हूँ। ये ले अपना दुपट्टा। अब कभी पिन लगा कर न आना रांड और चल ऊपर क्लास में।

प्रिया दीदी- जी ठीक है अब कभी पिन नहीं लगाउंगी, जी चलिए।

फरहान यहाँ से ऑडियो बंद कर देता है और बोलता है – बस यही तक ऑडियो है, अब मैं तुम लोगो को प्रिया रांड की वीडियो दिखाता हूँ।

सब लोग एक साथ बोलते है- हाँ यार अब जल्दी से वीडियो भी दिखा। ऑडियो सुन कर ही इतना मज़ा आया की हम सब के लौड़े खड़े हो गए।

ऑडियो सुन कर मुझे भी थोड़ा मज़ा आया। सच बोलूं तो मेरा लौड़ा भी थोड़ा गरम हो गया था।
छोटू बोला- फरहान भाई अंदर करमे में चाहिए। वहां उस छिनार का वीडियो दिखाओ। मैं वीडियो देख कर अपना लौड़ा हिलाऊँगा।
छोटू की बात सुन कर सब हसने लगे। मुझे भी थोड़ी हंसी आ गयी और मैं छोटू से बोला- बहनचोद तुझे बहुत मज़ा आ रहा है।

छोटू बोला- बहन तेरी चुदने जा रही है और तू मुझे बहनचोद बोल रहा है। वैसे तेरी बहन है ही इतनी मस्त माल की किसी का भी लौड़ा खड़ा हो जाये उसे चोदने के लिए।
सब फिर से हसने लगे।

फरहान बोला- चल ठीक है। चल अंदर रूम में चलते है, वही वीडियो देखना और अपना लौड़ा हिलना। क्यों दीपक क्या तू भी अपनी बहन की नंगी वीडियो देखेगा ? तुझे कोई प्रॉब्लम तो नहीं ?

मैं बोला- नहीं जीजा जी। मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं। चलिए अंदर रूम में ही चलते है। यहाँ बहुत लोग आते-जाते है।

फिर हम सब लोग वहां से उठ पर कैंटीन के एक रूम में चले गए और उस रूम को अंदर से बंद कर लिया। हम सब लोग कुर्सी पर बैठ गए और फरहान ने मोबाइल में वीडियो चला कर सामने मेज़ पर रख दिया।

अब मैं आप लोगो को वो बताता हूँ जो मैंने उस वीडियो में देखा। वीडियो जहाँ से शुरू होती है वहां पर मेरी प्रिया दीदी आगे चल रही है और फरहान प्रिया दीदी के पीछे से वीडियो रिकॉर्डिंग कर रहा है। प्रिया दीदी एक क्लास के अंदर जाती है और फरहान भी उस क्लास में अंदर आ जाता है। वो क्लास पूरी खाली थी।

फरहान के अंदर आते ही प्रिया दीदी मुस्कुरा के पूछती है- दरवाज़ा बंद कर दूँ ?

फरहान- खुल रहने दे मुझे क्या रांड। नंगी तुझे होना है, मुझे नहीं।

प्रिया दीदी मुस्कुराते हुए क्लास का दरवाज़ा बंद करती है और बोलती है- जी मुझे लगा की शायद आपके दोस्त भी आएंगे।

फरहान- साली छिनार उनसे मिलने की बड़ी जल्दी है। (और फरहान प्रिया दीदी का दुपट्टा खींच लेता है)
फरहान- देख कुछ भी नहीं दिख रहा। न चूची, न गर्दन।
प्रिया दीदी- जी पहले कपडे तो उतारने दीजिये। फिर सब दिखेगा। (प्रिया दीदी के चेहरे पर मुस्कराहट साफ़ दिख रही थी, वो काफी खुश लग रही थी)

मुझे भी अच्छा लगा की मेरी प्रिया दीदी खुश है।

फरहान- रांड कपडे बाद में उतारना, पहले अपने बालों की चोटी खोल। ऐसे बन के आती है की खड़ा लौड़ा भी बैठ जाये। बाल खोल अपने छिनार।

प्रिया दीदी हसने लगी और बोली- जी दुबारा बाल बांधने में काफी टाइम लग जायेगा।
फरहान- आज दिनभर अपने बाल खुले रख। जब घर जाना तब अपने बाल बांध लेना और अपने कपडे कैंटीन में जा कर छोटू से ले लेना कुतिया।

प्रिया दीदी हंसते हुए बोली- क्यों आज मुझे दिनभर कॉलेज में नंगी ही रखेंगे क्या ? और प्रिया दीदी अपने बालों की चोटी खोलने लगती है।

फरहान- सिर्फ आज नहीं, अब से तू कॉलेज में नंगी ही रहेगी मादरचोद। और फरहान हसने लगता है।
प्रिया दीदी अपने बाल खोल देती है और फिर बोलती है- हाँ खोल दिए। अब क्या उतारू ?

फरहान- चल अब अपना कुर्ता उतार छिनार।

प्रिया दीदी अपना कुर्ता उतरती है और बगल में रखी मेज़ पर अपना कुर्ता रख देती है। प्रिया दीदी ने कुर्ते के अंदर सफ़ेद समीज़ पहनी थी।

फरहान- बहन की लौड़ी ये क्या है ! चूची तो है ही नहीं और इन्हे ऐसे छुपा के रखा है। जैसे अंदर कोई हीरा छुपाया हो। इसे भी उतार साली।

फरहान ने ये बात प्रिया दीदी की समीज़ के ऊपर से उनकी चूची दबाते हुए बोली थी।

प्रिया दीदी हँसते हुए बोली- जी हीरा नहीं है पर हीरे से कम भी नहीं है। और अपनी समीज़ उतार कर मेज़ पर रख दी।

प्रिया दीदी ने समीज़ के अंदर पिंक ब्रा पहनी थी। अब मेरी प्रिया दीदी ब्रा और सलवार में फरहान के सामने खडी थी।

फरहान- सुभान-अल्लाह ! क्या जिस्म है तेरा।

यहाँ भी सबके मुंह से वाव ! क्या बात है ! सुभान-अल्लाह निकल जाता है।

फरहान यहाँ पर वीडियो रोक देता है और सब से पूछता है की- कैसी लगी ?

छोटू- मस्त माल है भईया जी। फिगर कितना सेक्सी है छिनार का।

छोटू ने अपना लण्ड अपने कच्छे से बाहर निकाल लिया और उसे मसलने लगा।

विजय बोला- क्या बोलू भाई ! क्या मस्त चीज़ है साली।

विजय भी अपने लण्ड को पैंट के ऊपर से ही मसलने लगा।

फरहान बोला- रुको अभी बोलना।

फरहान  फिर से वीडियो शुरू करता है।

प्रिया दीदी- जी क्या हुआ ? (दीदी मुस्कुराते हुए आँख मारती है)

फरहान- कुछ नहीं बहन की लौड़ी। चल अपनी ब्रा उतार।

प्रिया दीदी मुस्कुराते हुए अपने दोनों हाँथ अपने पीछे पीठ पर ले जाती है और अपनी ब्रा का हुक खोल कर अपनी ब्रा को अपने कंधो से अलग करती है फिर ब्रा उतार कर मेज़ पर रख देती है।

प्रिया दीदी की चूची देख कर सबके मुंह में पानी आ गया और लार टपकने लगी। सच में मेरी प्रिया दीदी की क्या मस्त चूची थी। चूची छोटी थी पर एकदम टाइट और गोल थी। प्रिया दीदी की चूची बिलकुल भी लटक नहीं रही थी और अपनी जगह पर संतरे जैसी थी। मेरी प्रिया दीदी की चूची दूध जैसी गोरी थी और उन पर भूरे रंग के छोटे-छोटे निप्पल बहुत मस्त लग रहे थे। प्रिया दीदी के गले में सीने तक चूची के बीच में काले धागे में दुर्गा जी का लॉकेट और गोल्ड की चेन उनकी चूची को और सुन्दर बना रहे थे। मेरी प्रिया दीदी को ऐसे नंगा देख कर सबके लौड़े खड़े हो गए। मैंने भी पहली बार अपनी प्रिया दीदी को ऐसे देखा था और उत्तेजना से मेरा लौड़ा भी खड़ा हो गया।

#मबहन #क #चदई #अपन #ह #मसलम #दसत #और #उसक #अबब #स #Part

माँ-बहन की चुदाई अपने ही मुस्लिम दोस्त और उसके अब्बू से Part 3

Return back to Adult sex stories, Desi Chudai sex stories, hindi Sex Stories, Indian sex stories, Malayalam Kambi Kathakal sex stories, Meri Chudai sex stories, Other Languages, Popular Sex Stories, Top Collection, पहली बार चुदाई, रिश्तों में चुदाई, लड़कियों की गांड चुदाई, सबसे लोक़प्रिय कहानियाँ, हिंदी सेक्स स्टोरी

Return back to Home

Leave a Reply